Uttar Hamara logo

अब गूगल मैप से यूपी पुलिस करेगी अपराधों की रोकथाम

 

digital cm_UP police

May 06, 2016

देश में सबसे पहले उत्तर प्रदेश में वेब बेस्ड क्राइम मैपिंग सिस्टम शुरू होने जा रहा है। इसके तहत थाने वार क्राइम स्पॉट चिह्नित होंगे और पता लगाया जाएगा कौन सा अपराध अमूमन किस वक्त होता है। वेब बेस्ड क्राइम मैपिंग सिस्टम से पुलिस एक तय समय पर तय स्थान पर सुनियोजित तरीके से फोकस करेगी। ताकि क्राइम पर लगाम लगाया जा सके, पूरे देश में यूपी पहला प्रदेश होगा जो हाईटेक सिस्टम लागू करने जा रहा है।

हाईटेक होगी पुलिस, अपराध पर लगेगी लगाम

अब नये थानेदारों, सीओ या फिर पुलिस कप्तान को जिले और अपने क्षेत्र में हर स्पॉट पर होने वाले क्राइम नेचर को समझकर उसे रोकने और उसका डाटा बैंक बनाने में आसानी होगी क्योंकि पुलिस अब गूगल मैप पर क्राइम कंट्रोल करेगी। अक्सर होता है कि थानेदार चार्ज संभालने के बाद क्षेत्रीय अपराधों और संवेदनशील स्थानों की जानकारी काफी समय बाद कर पाते हैं, जबकि उससे पहले ही नया अपराध हो जाता है, लेकिन अब ऐसा नहीं होगा। प्रदेश के सभी जिलों के थानेदार एक क्लिक कर क्षेत्रीय अपराधों, घटना स्थल और संवेदनशील स्थानों आदि की पूरी जानकारी कर सकेंगे। पुलिस महकमा मैपिंग साफ्टवेयर डाटा लोड कर निर्धारित किए गए 16 किस्म के अपराधों का पूरा ब्योरा फीड कर रहा है। इसके लिए कर्मचारियों को भी वर्कशाप कर प्रशिक्षित किया जा चुका है।

UP police2

मिलेगी अपराध के पैटर्न की जानकारी

अपराधों पर प्रभावी अंकुश लगाने के लिए पुलिस की यह बड़ी मुहिम है। अक्सर थाना प्रभारी और अधिकारी कम समय में क्षेत्रीय अपराध और अपराधों के पैटर्न की जानकारी नहीं कर पाते हैं। इसका लाभ उठाते हुए अपराधी घटनाओं को अंजाम दे देते हैं। थानेदार को पल भर में पूरी जानकारी मिल सके। इसके पुलिस महकमे ने मैपिंग साफ्टवेयर अपलोड किया है। इन अपराधों के विवेचक घटना स्थल पर जाएंगे तो एंड्रायड मोबाइल में स्थापित नेट मॉनीटर सॉफ्टवेयर से उस घटना स्थल का अक्षांतर और देशांतर भी थाने पर आकर अपराध रजिस्टर में अंकित करेंगे।

UP police

हर थाना होगा अपग्रेड

प्रदेश में क्राइम मैपिंग सिस्टम व्यवस्था लागू की गई है। फिलहाल मैपिंग साफ्टवेयर डाटा जिला अपराध ब्यूरो (डीसीआरबी) पर अपलोड कर डाटा फीडिंग का कार्य चल रहा है। इसके बाद सभी थानों पर भी यह सॉप्टवेयर लोड कर थाना क्षेत्रों में होने वाली घटनाओं और संवेदनशील स्थानों की पूरी जानकारी फीड की जाएगी। इससे पुलिस को अपराधों पर अंकुश लगाने में काफी मदद मिलेगी।

फीड होगा तीन साल का डाटा

इस सिस्टम के तहत थानों पर तीन साल के क्राइम रिकार्ड को अपडेट करने का काम होगा। सिस्टम के जरिए हर क्षेत्र में होने वाले क्राइम नेचर के वक्त, स्पॉट और हर जानकारी अपडेट होगी। इसका डाटा बैंक रहने से हर नये ऑफिसर को अपने क्षेत्र में ज्वाइन करने पर ये पता चल जायेगा कि किस वक्त, किस जगह पर किस नेचर का क्राइम ज्यादा होता है ताकि उसे रोकने की प्लैनिंग की जा सके।

पहले फेज में चार जोन

आईजी आशुतोष पांडेय ने बताया कि सबसे पहले आगरा जोन में इस पर ट्रायल शुरू किया गया। फिर कानपुर में इस पर परफेक्शन हासिल किया गया। यहां पर इसके लिए सॉफ्टेवयर डेवलप किया गया और इसे गूगल पर अपलोड किया गया। पिछले डेढ़ साल से कानपुर में इसे सफलतापूर्वक काम किया गया। पहले फेज में एक अप्रैल से कानपुर समेत, मेरठ, बरेली और आगरा जोन में लागू कर दिया जाएगा।

digitalcm.in_UPP

इस तरह से काम करता है सिस्टम

इस सिस्टम के तहत जिले के सभी थानावार डाटा जुटाया जाता है। हर थानाक्षेत्र से यह पता लगाया जाता है कि कौन-कौन से क्राइम प्रोन इलाके हैं। किस टाइम पर ये क्राइम ज्यादा होते हैं। किस तरह का क्राइम ज्यादा होता है। क्राइम होने का मुख्य कारण क्या है। पिछले तीन वर्ष का डाटा तैयार किया जाता है। हर क्राइम का लैटीट्यूड और लॉन्गीट्यूड तैयार कर ही यह डाटा तैयार किया जाता है। इसके बाद जो एनालाइसिस टूल हाथ लगता है उसे गूगल मैप पर अपलोड कर दिया जाता है। कानपुर की टेक्नो फ्रेंड कंपनी ने ऐसा सॉफ्टवेयर तैयार किया है जो इन डाटा को गूगल पर अपलोड करता है और ऑटोमैटिक कुछ ही मिनटों में क्राइम प्रोन स्पॉट उभर कर आ जाते हैं। हर स्पॉट की क्राइम की डिटेल महज एक क्लिक पर सामने आ जाती है।

ट्विटर से भी जुड़ेगा हर थाना

उत्तर प्रदेश पुलिस अब हर स्तर पर हाईटेक बनती जा रही है। फिर चाहे वो बुनियादी सुविधाओं की बात हो या फिर सोशल मीडिया या अन्य माध्यम हो। अभी तक पुलिस मंत्रालय के आला अधिकारी तो ट्विटर पर थे ही मगर अब से उत्तर प्रदेश पुलिस के सभी थाने के एसओ, एसएचओ और सीओ को भी और हाईटेक बना दिया गया। उत्तर प्रदेश पुलिस के सभी थाने के एसओ, एसएचओ और सीओ को ट्वीटर से जोड़ दिया गया है। अब ये सभी अधिकारी अपने सीनियर को फॉलो करेंगे और अपने उच्च अधिकारी के प्रोफाइल पर क्षेत्र से जुडी किसी भी शिकायत अपलोड होने पर उस शिकायत पर तुरन्त कार्यवाही भी की जाएगी।

 

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news