Uttar Hamara logo

यूँ ही नहीं अखिलेश यादव पर नाज़ करती है यूपी की जनता

7

30 January, 2017

भारत आज दुनिया का सबसे नौजवान देश है और अगर नौजवानों को संवार दिया जाय तो देश खुद ब खुद तरक्की की राह पर बढ़ जायेगा। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव में इसे बखूबी समझा और इस दिशा में जमकर काम भी किए। इसका ही परिणाम है कि आज अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के नौजवानों के आदर्श के रूप में स्थापित हो चुके हैं। अपने पांच साल के कार्यकाल में उन्होंने नौजवानों का भविष्य सँवारने के लिए लगातार एक से बढ़कर एक शानदार कदम उठाये। जिनका स्वागत पूरा देश कर रहा है, और यही वजह है कि अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश में जनता के सीएम के रूप में लोकप्रिय हो चुके हैं। प्रगति के पथ पर दौड़ रहे उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव ने युवाओं की उन्नति के लिए कई शानदार कदम उठाये। लगातार दो वर्ष युवा वर्ष घोषित कर उन्हें तमाम योजनाओं की सौगात दी।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने पिछले वर्ष 20 दिसम्बर को इलाहाबाद राज्य विश्वविद्यालय के भवन का शिलान्यास किया। राज्य सरकार द्वारा स्थापित यह विश्वविद्यालय आधुनिक शिक्षा का महत्वपूर्ण केन्द्र होगा। यहां 12 स्कूलों तथा 114 केन्द्रों व विभागों के माध्यम से शैक्षणिक गतिविधियां संचालित की जाएंगी। विश्वविद्यालय की स्थापना के लिए करीब 350 करोड़ रुपये दिए गए हैं। इसमें से 294 करोड़ रुपये भूमि के लिए तथा लगभग 49 करोड़ रुपये भवन निर्माण के लिए दिए गए हैं। अखिलेश यादव का प्रयास है कि हमारे प्रदेश का नौजवान उच्च शिक्षा हासिल कर देश दुनिया में अपना नाम रोशन करें। इसके लिए अखिलेश यादव ने हमेशा प्रयास किए हैं और ये कदम इसी की एक बानगी है।

समाज के तबके के लोगों को कम कीमत पर बेहतर से बेहतर इलाज मिले, ये अखिलेश यादव का हमेशा से प्रयास रहा है और ये कदम इसी की तरफ बढायी गयी एक और शानदार पहल है। इसी क्रम में उन्होंने लखनऊ में डॉ। राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान की विभिन्न परियोजनाओं का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया। लोकार्पण की जाने वाली परियोजनाओं में गोमती नगर विस्तार योजना में नवनिर्मित 200 बेड वाला मातृ एवं शिशु रेफरल चिकित्सालय, संस्थान के वर्तमान परिसर में रेजिडेण्ट्स हॉस्टल, नर्सेज हॉस्टल, डीएसए मशीन (रेडियोडायग्नोसिस विभाग), सिमुलेशन लैब (एनेस्थीसिया विभाग), किडनी ट्रान्सप्लाण्ट यूनिट (नेफ्रोलाजी विभाग), न्यूरो-आईसीयू (न्यूरो सर्जरी विभाग), सोलर प्लाण्ट, द्वितीय कैथ लैब (कार्डियोलाजी विभाग), ई-चार्टिंग (आईसीयू एवं क्रिटिकल केयर विभाग) तथा एपिलेप्सी मॉनिटरिंग यूनिट (ईएमयू) शामिल रहीं।

लखनऊ में उच्च स्तरीय कैंसर संस्थान का निर्माण भी इस दिशा में एक बड़ा कदम रहा है। लखनऊ में सीजी सिटी स्थित उच्च स्तरीय कैंसर संस्थान का लोकार्पण होने के साथ यहाँ ओपीडी शुरू हो चुकी है। इस परियोजना की कुल लागत 854।51 करोड़ रुपये है। इस कैंसर संस्थान, रोग के उपचार के साथ ही शोध भो हो सकेगा। आने वाले दिने में यह केंद्र न सिर्फ उत्तर प्रदेश बल्कि पूरे उत्तर भारत के लिए कैंसर के इलाज का बड़ा केंद्र बनेगा।

ये वो शानदार योजनायें हैं जिससे उत्तर प्रदेश शिक्षा और सेहत के क्षेत्र में मील का पत्थर साबित होने वाली हैं। वैसे ये उन सैकड़ों कामों से मात्र कुछ हैं जो आज उत्तर प्रदेश को विकास के रास्ते पर आगे बाधा रहा है, बल्कि इन कामों की बदौलत ही पूरा उत्तर प्रदेश अखिलेश यदव पर नाज कर रहा है।

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news