Uttar Hamara logo

बुजुर्गों की इच्छा का सम्मान, निःशुल्क तीर्थ यात्रा का अभियान

समाजवादी श्रवण यात्रा से दो साल में कराए गए  17 से अधिक धर्मस्थलों के दर्शन
स्वर्ण मंदिर के दर्शन के लिए रवाना हुआ 878 यात्रियों का जत्था

Samajwadi shrawan yatra2

08 August, 2016

एक ओर राजनीति की रोटियां सेंकने वाले दल विभिन्न धर्मों के बीच धार्मिक वैमनस्यता बढ़ाने की कोशिश कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उत्तर प्रदेश में अखिलेश सरकार धार्मिक सद्भाव की गंगा बहाने का काम कर रही है। समाजवाद का असल मायने भी यही है कि जहां कोई भेदभाव न हो। उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार इसी मूलमंत्र पर काम कर रही है। समाजवादी श्रवण यात्रा इसका सटिक उदाहरण है। पिछले दो साल में उत्तर प्रदेश के वरिष्ठ नागरिकों को आठ तीर्थयात्राएं कराने के बाद सोमवार आठ अगस्त से यह यात्रा श्रद्धालुओं को अमृतसर के प्रसिद्ध स्वर्णमंदिर के दर्शन कराने के लिए रवाना हुई। चारबाग रेलवे स्टेशन से आईआरसीटीसी के माध्यम से चार्टर की गई एक विशेष रेलगाड़ी के लिए चयनित तीर्थयात्रियों को पंजाब के अमृतसर में स्वर्ण मन्दिर, जलियावाला बाग एवं बाघा बार्डर की यात्रा कराये जाने का इन्तजाम किया है। इस यात्रा में कुल 878 तीर्थयात्री शामिल हैं।

Samajwadi shrawan yatra1

यह अभिनव प्रयास मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उन बुजुर्गों का ख्याल रखते हुए किया था जो जीवन भर घर परिवार की जिम्मेदारियों को निभाने के चलते पहले तीर्थयात्रा की इच्छा को दबाए रखते है, फिर बुढ़ापे में धनाभाव के कारण उनका यह सपना पूरा नहीं हो पता था। ऐसे बुजुर्गों के लिए अखिलेश यादव श्रवण कुमार बन आगे आए और उनके लिए पूरी तरह निःशुल्क समाजवादी श्रवण यात्रा की शुरुआत की। दरअसल सीएम अखिलेश का मानना है कि धार्मिक यात्राएं हमारे देश की सांस्कृतिक विरासत का हिस्सा हैं। यह धर्म के सम्बन्ध में हमारी समझ को बेहतर बनाने में मददगार होती हैं तथा देश की एकता और अखण्डता को मजबूत करने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं। धर्म के प्रति जागरूक लोगों में करुणा, उदारता, क्षमा और कर्तव्य बोध बढ़ता है।

संसाधन विहीन बुजुर्ग लोगों की आस्था को पूरा कराने के लिए मुख्यमंत्री ने समाजवादी श्रवण यात्रा की शुरुआत की है। समाजवादी श्रवण यात्रा में ध्यान दिया जाता है कि यात्रियों को किसी भी तरह की शारीरिक या आर्थिक परेशानी नहीं उठानी पड़ें। इसलिए  यात्रियों को उनके गृह जिले से लखनऊ तक आने एवं वापस जाने की निःशुल्क व्यवस्था राज्य सड़क परिवहन निगम द्वारा कराई जाती है। यात्रियों को सामान्य श्रेणी की सुविधाओं सहित एक ट्रेवल किट उपलब्ध कराई जाती है। वहीं यात्रा के दौरान उन्होंने सुबह के नाश्ते से लेकर रात के भोजन तक की मुफ्त व्यवस्था की जाती है। इतना ही नहीं मुफ्त स्वास्थ्य सेवाएं भी दी जाती है। यात्रा के दौरान हर कोच में एक टूर गाइड और सुरक्षा गार्ड की भी व्यवस्था होती है, जो यात्रियों की देखभाल एवं उनकी समस्याओं का तुरन्त निस्तारण एवं अन्य व्यवस्थाएं सुनिश्चित कराता है।

Samajwadi shrawan yatra3

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शुरु की गई समाजवादी श्रवण यात्रा की समाज के प्रत्येक वर्ग में तारीफ हो रही है। इसके अतिरिक्त सरकार सिंधु दर्शन यात्रा पर जाने वाले उत्तर प्रदेश के मूल निवासियों को दस हजार रुपये का अनुदान दे रही है। वहीं कैलाश मानसरोवर यात्रा से लौटकर आने वाले यात्रियों को 50 हजार रुपये का अनुदान दिया जा रहा है। वहीं समाजवादी श्रवण यात्रा को सुखद और सुलभ बनाने के लिए सरकार ने इस यात्रा की वेबसाइट http/samajwadishravanyatra.upgov.info का भी लोकार्पण किया है। अभी तक लोगों को सम्बन्धित जिलाधिकारी के कार्यालय में आवेदन करना पड़ता था। अब इस वेबसाइट से समाजवादी श्रवण यात्रा के इच्छुक लोगों को आनलाइन आवेदन करने की सुविधा मिलेगी।  आनलाइन आवेदन की सुविधा का लाभ विभाग को भी मिलेगा, क्योंकि इच्छुक यात्रियों की संख्या की जानकारी प्राप्त होने पर यात्रा के लिए और बेहतर प्रबन्ध किए जा सकेंगे।

समाजवादी श्रवण यात्रा के लिए पात्रता

  • आवेदक उत्तर प्रदेश का मूलनिवासी हो और उसकी आयु 60 वर्ष से ज्यादा हो।
  • आवेदक द्वारा आवेदन पत्र के साथ पहचान प्रमाण पत्र यो निवास प्रमाण पत्र में से कोई एक स्वप्रमाणित कर लगाना जरूरी है।
  • किसी चिकित्साधिकारी द्वारा जारी स्वस्थता प्रमाण-पत्र संलंग्न करना भी अनिवार्य है।
  • यात्रा हेतु इच्छुक यात्रियों को आवेदन करते समय अपना मोबाइल नम्बर देना अनिवार्य है, ताकि यात्रा से सम्बन्धित जानकारियां एसएमएस या विज्ञापन से यात्रियों को दी जा सकें।
  • यात्रा के दौरान किसी यात्री की मुत्यु होने पर धर्मार्थ कार्य विभाग की कोई जिम्मेदारी नहीं होगी।
  • चयन  जनपदवार आवेदनकर्ताआंे की जन्म तिथि की वरिष्ठता एवं पहले आओ-पहले पाओ के क्रम पर आधारित होगी।
  • पूर्व में हुई यात्रा की प्रतीक्षा सूची में सम्मिलित आवेदकों को अगली यात्रा में प्राथमिकता दी जाएगी।

पूर्व में हो चुकीं यात्राएं

  1. हरिद्धार एवं ऋषिकेश
  2. अजमेर एवं पुष्कर
  3. तिरुपति एवं रामेश्वरम
  4. जगन्नाथ पुरी एवं कोणार्क मन्दिर (उड़ीसा)
  5. शिरडी, त्रयम्बकेश्वर एवं शनि-सिंगनापुर (महाराष्ट्र)
  6. द्वारिका, सोमनाथ, नागेश्वर ज्योतिलिंग एवं द्वारिका (गुजरात)
  7. महाकालेश्वर, उज्जैन एवं ओमकालेश्वर (मध्यप्रदेश)
  8. द्वारिका, सोमनाथ, नागेश्वर (गुजरात)

वर्तमान यात्रा

  • स्वर्ण मंदिर, अमृतसर (पंजाब)

 

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news