Uttar Hamara logo

पौधे हमेशा रहें हरे-भरे, इसलिए होगी ऑनलाइन मॉनिटरिंग

Image Source: UPtreewo

Image Source: UPtreewo

 April 6, 2016

आमतौर पर पौधरोपण के कार्यक्रम महज रस्मअदायगी साबित होते हैं। लेकिन उत्तर प्रदेश में अब ऐसा नहीं होगा। यहां न सिर्फ ज्यादा से ज्यादा पौधे लगाए जाएंगे, बल्कि उनका ख्याल भी रखा जाएगा, जिससे वे समय से पहले सूखे नहीं और पर्यावरण संरक्षण में आजीवन योगदान देते रहें। दरअसल यह पूरी कवायद राज्य में वनक्षेत्र बढ़ाने की है। ये पौधे सूखे नहीं इसलिए उत्तर प्रदेश सरकार ने इन पौधों का मानचित्र तैयार करके उसकी ऑनलाइन मॉनिटरिंग की तैयारी की है।

पर्यावरण संरक्षण सीएम की शीर्ष प्राथमिकता

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की प्राथमिकता में प्रदेश की प्रगति के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण शीर्ष पर है। इसी क्रम में पूरे राज्य में बढ़ चढकर पौधरोपण के कार्यक्रम समय-समय पर आयोजित किए जाते रहे हैं। लेकिन इन कार्यक्रमों से ज्यादा अहम यह बात है कि जो पौधे लगाए जाएं वे फले-फूलें और वनक्षेत्र बढ़े जिससे जनसामान्य का बेहतर आबोहवा मिल सके।

पौधरोपण में बना चुके हैं विश्व कीर्तिमान

मुख्यमंत्री अखिलेश की इन कोशिशों का ही नतीजा रहा है कि यूपी सरकार को पौधरोपण के लिए प्रतिष्ठित गिनीज बुक आॅफ वर्ल्ड रिकाॅर्डस से सम्मानित किया जा चुका है। अब प्रदेश सरकार पूरे राज्य में 6 करोड़ से ज्यादा पौधे लगाने की तैयारी में जुट गई है। इस कवायद का एक पहलू यह भी है कि केंद्र सरकार ने राज्यों को दिए जाने वाले बजट को सीधे वनक्षेत्र से जोड़ दिया है। इस तरह जिस राज्य में जितना वनक्षेत्र अधिक होगा उसे उतना अधिक पैसा मिलेगा।

देश के सर्वाधिक वनावरण वृद्धि वाले राज्यों में यूपी

देश में वनों की स्थिति की रिपोर्ट 2015 के मुताबिक, वर्ष 2013 की तुलना में उत्तर प्रदेश के वनावरण में 112 वर्ग किलोमीटर और वृक्षावरण में 149 वर्ग किलोमीटर सहित कुल 261 वर्ग किलोमीटर की वृद्धि हुई है। उत्तर प्रदेश राष्ट्रीय स्तर पर सर्वाधिक वनावरण वृद्धि वाले राज्यों में एक है।

तैयार किए नए ग्रीन बेल्ट

मुख्यमंत्री ने 2012 में कार्यभार संभालने के साथ पूरे राज्य में हरित पट्टी यानी ग्रीन बेल्ट बढ़ाने पर जोर देना शुरू किया। इस क्रम में 2012 से 2015 तक ही लगभग 10 हजार हेक्टेयर क्षेत्र में करीब 60 लाख पौधे लगाकर ग्रीन बेल्ट विकसित किए गया है। गौर करने वाली बात ये है कि ये ग्रीन बेल्ट किसी स्थान विशेष पर विकसित नहीं करते हुए सभी जनपद में डेवलप किए गए हैं। इतना ही नहीं जो पौधे लगाए गए हैं, उनकी सुरक्षा, देखरेख और सिंचाई का भी पूरा ध्यान दिया जा रहा है।

खाली पड़ी जमीन में भी लाई हरियाली

खाली पड़ी जमीन को हरा भरा करने का एक और महत्वपूर्ण कदम समाजवादी सरकार ने उठाया है। मैनपुरी, इटावा, लखनऊ, उन्नाव, कन्नौज और बदायूं को पूरी तरह हरा भरा करने के लिए इन जगहों पर टोटर फाॅरेस्ट कवर योजना चलाई जा रही है। इसके तहत यहां खाली पड़ी जमीन पर पौधे लगाए गए है। वर्ष 2014 और 2015 में इन इलाकों में कुल 2300 हेक्टेयर क्षेत्र को हरा भरा किया गया है।

अब बारी आपकी है। आप भी आगे आइए और अपने आसपास पौधे लगाकर, उसकी देखभाल कर आप भी शामिल हो जाइए उत्तर प्रदेश सरकार और मुख्यमंत्री की अपने राज्य को हरा-भरा बनाने की इस पहल में।

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news