Uttar Hamara logo

बेटे ने नहीं निभाया फर्ज तो अखिलेश बने श्रवण कुमार

samjwadi shrvan yojna

samjwadi shrvan yojna

65 साल की एक बुजुर्ग महिला शनिवार को जब चारबाग रेलवे स्टेशन पर ट्रेन से उतरी तो स्टेशन पर कदम रखते ही उनकी आंखों से आंसू छलछला आए। यह उनके लिए खुशी का मौका था। खत्म होती उम्मीदों को वो सच में बदल कर लौटी थी। वो लौटी थी शिरडी और शनि सिंगणापुर के दर्शन करके।

इन बुजुर्ग महिला का शिरडी दर्शन करने की बहुत पहले से ही इच्छा थी, लेकिन परिवार की जिम्मेदारियों का निर्वहन और आर्थिक तंगी की वजह से वो अपना यह सपना पूरा नहीं कर पा रहीं थी। एक महीने पहले जब उन्हें पता चला कि बेटे बहू भी शिरडी घूमने की तैयारी कर रहे हैं तो उन्हें खुशी का अहसास हुआ। उन्हे लगा शायद उनकी बरसों पुरानी शिरडी घूमने की मन्नत अब पूरी हो जाएगी। लेकिन उनकी यह खुशियां ज्यादा समय तक टिक नहीं सकी। उनकी उम्मीदों को तब झटका लगा जब उनके बेटे बहू बिना उन्हें साथ लिए ही शिरडी घूमने चले गए। जीवन के इस पड़ाव पर अपनों द्वारा दिए गए ऐसे अनुभव वाकई ही दुखदायी होते हैं। बेटे बहू की ऐसी बेरूखी देखकर उन्हें विश्वास हो चला था कि शायद अब जि़न्दगी भर वो शिरडी जाने के अपने सपने को पूरा नहीं कर पायेंगी। लेकिन एक सुखद चमत्कार उनकी प्रतीक्षा में था।

पड़ोस में रहने वाली अंकिता नामक एक युवती ने उनके इस दुख को महसूस करते हुए ‘समाजवादी श्रवण यात्रा’ में उनका नांमाकन करा दिया। फिर क्या था शानदार आवाभगत के साथ उनका चारबाग रेलवे स्टेशन पर स्वागत किया गया। फिर एक स्पेशल ट्रेन में पूरे वी.आई.पी. इंतजामों के साथ उन्हें शिरडी सहित अनेक तीर्थस्थानों की यात्रा कराई गई।

सफर के बारे में पूछने पर वो भावुक होते हुए बताती हैं कि ‘‘जि़न्दगी में इतना शानदार सफर पहले कभी नहीं किया। पहली बार इतना अच्छा खाना मिला, घूमना फिरना मिला। बेटे से ज्यादा किया अखिलेश यादव ने। अपने शिरडी चले गए लेकिन हमें नहीं ले गए, हम बहुत रोए थे, बहुत इच्छा थी जाने की। भगवान ने अखिलेश को बेटा बनाकर भेज दिया तो अखिलेश मेरे लिए श्रवण कुमार से कम नहीं।’’

26 अप्रैल को रवाना हुई थी यात्रा

1080 यात्रियों को लेकर समाजवादी श्रवण यात्रा के लिए विशेष ट्रेन 26 अप्रैल को रवाना हुई थी। शिरडी और शनि शिंगणापुर के दर्शन कराकर शनिवार को ट्रेन वापिस लौटी । लखनऊ वापस लौटने पर चारबाग रेलवे स्टेशन पर उत्सव जैसा माहौल हो गया। ढोल नगाड़ो के बीच जब एक-एक करके बुजुर्ग उतरने लगे तो स्टेशन का माहौल कुछ अलग नजर आया। उनकी अगवानी के लिए धर्मार्थ कार्य राज्यमंत्री विजय कुमार मिश्र भी पंहुचे।

अगली श्रवण यात्रा द्वारका जाएगी

इस यात्रा के समापन के साथ ही अगली यात्रा की भी तैयारी शुरू हो चुकी हैं। इस बार तीर्थयात्रियों को लेकर समाजवादी श्रवण यात्रा के लिए स्पेशल ट्रेन द्वारिकापुरी जाएगी। ट्रेन 23 मई को चारबाग रेलवे स्टेशन से रवाना होगी।

 

To Read More: Click Here

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news