Uttar Hamara logo

खुलासा: एकतरफा प्यार में हुआ था स्नैपडील एग्जीक्यूटिव दीप्ति का अपहरण, पांच गिरफ्तार

dipti-found-3

एसएसपी धर्मेन्द्र सिंह ने बताया कि इस मामले के सभी आरपी पुलिस की गिरफ्त में हैं और इसमें प्रयुक्त स्वोफ्त और आई 10 कार को भी बरामद कर लिया गया है. एसएसपी के मुताबिक दीप्ति को देवेन्द्र की खुराफात की कोई भनक भी नहीं थी जबकि आरोपी उसके बारे में बहुत कुछ जनता था. इतना ही नहीं उसे यह तक पता था कि उसका बॉयफ्रेंड कौन है और वह कहां मिलती है. वह कौन और कैसे कपड़े पहनती है और कहां-कहां जाती है.

एसएसपी के मुताबिक देवेन्द्र शाहरुख खान और जूही चावला की फिल्म डर से खासा प्रभावित था. उसने अपने साथियों को अपने प्यार के बारे में नहीं बताया था. उसने कहा था कि दीप्ति एक हवाला एजेंट है और उसके अपहरण से अच्छी खासी रकम वसूल सकते हैं.

और क्या कहा एसएसपी ने

  • को जेल से फरार होने के बाद देवेन्द्र ने पहली बार दीप्ति को राजीव चौक मेट्रो स्टेशन पर देखा था. उसके बाद से वह उसे अपना बनाना चाहता था.
  • प्यार में वह इतना पागल था कि वह उसके लिए ऑटो ड्राईवर बन गया.
  • इस दौरान एक साल के अन्दर देवेन्द्र ने उसकी 150 बार रेकी की.
  • उसको सब कुछ पता था कि दीप्ति कब और कहां जाती है और किससे मिलती है.
  • अपने आपको डर फिल्म का रोहित मेहरा समझने वाला देवेन्द्र, अपने साथियों के साथ मिलकर दीप्ति के अपहरण की साजिश रची था.
  • अपहरण के पीछे देवेन्द्र का मकसद सिर्फ दीप्ति के नजरों में हीरो बनना था.
  • वारदात के दिन देवेन्द्र ने दो ऑटो ली, एक वह खुद चला रहा था जबकि दूसरा उसका साथी प्रदीप. इस बीच एक स्विफ्ट कार भी थी जिसे मोहित उर्फ़ छोटू चला रहा था.
  • वैशाली मेट्रो स्टेशन पर उसने कई बार दीप्ति को अपने ऑटो में बैठाने की कोशिश की लेकिन वह उसके साथी प्रदीप के ऑटो में बैठी.
  • जान बूझकर देवेन्द्र ने अपने ऑटो में तीन जगह खली रखी.
  • प्लान के मुताबिक कुछ दूर चलने के बाद जिस ऑटो में दीप्ती बैठी थी ड्राईवर ने किलों के पट्टे से अपनी गाड़ी पंक्चर कर ली,
  • 300 मीटर आगे जाने पर ऑटो रुक गई. इसी बीच देवेन्द्र ऑटो लेकर आया और ड्राईवर से पूछा क्या हुआ.
  • प्रदीप ने कहा गाडी पंचर हो गई है सवारी बैठा लो. इसके बाद दीप्ति के अलावा एक और लड़की उतर कर देवेन्द्र के ऑटो में बैठ गई.
  • देवेन्द्र के ऑटो में उसके तीन और साथी पहले से बैठे थे.
  • लेकिन उनका पहला प्लान की स्विफ्ट कार से लड़की को अगवा करना है फ़ैल हो गया क्योंकि जिस कील के पट्टे से ऑटो पंचर हुयी थी उसी से पीछे आ रही स्विफ्ट भी पंचर हो गई.
  • इस बीच देवेन्द्र और उसके साथी ने चाकू के नोंक पर दूसरी लड़की को उतर दिया और ऑटो से ही भागे.
  • कुछ दूर जाने पर ऑटो ख़राब हो गया.
  • इसके बाद वे एक i1० कार से बागपत के खेड़ाहसाना गांव पहुंचे, जहां उन्होंने रात गुजारी.
  • इस बीच देवेन्द्र लड़की के सामने अपने आपको हीरो की तरह प्रेजेंट कर रहा था. जबकि उसके अन्य साथी उसके साथ सख्ती से पेश आ रहे थे.
  • इसके बाद वे लड़की को ट्रेन से पानीपत लेकर पहुंचे
  • वहां भी देवेन्द्र ने दीप्ति से दोस्ताना रवैया रखा और उसका ख्याल रखा.
  • इतना ही नहीं प्लान सफल होते ही वह उसे स्टेशन पर छोड़ने भी गया और ट्रेन पर बैठाने के बाद उससे कहा, ‘दोस्त मानोगी या दुश्मन’

 

To Read More: Click Here

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news