Uttar Hamara logo

किसानों की हितैषी बनी अखिलेश सरकार

 

Photo_uttamup.com

Photo_uttamup.com


अपने पिता मुलायम सिंह यादव की तरह ही उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव भी प्रदेश के किसानों के सुख-दुःख में हमेशा शरीक होते रहे हैं। इसी का नतीजा है कि उत्तर प्रदेश के किसान नित तरक्की की राह पर तेजी से बढ़ रहे हैं। प्रदेश सरकार ने सूखा पीड़ित बुन्देलखंड में पानी पहुँचाने के साथ-साथ वहां के किसानों की बंजर होती धरती को दोबारा खेती के लायक बनाया। साथ ही उन्होंने सूखे से निपटने के लिए पूरे प्रदेश तालाबों को चिन्हित करके उन्हें साफ़ करके उनमें पानी भरने की व्यवस्था की।

किसानों को उनकी उपज का अच्छा दाम मिले इसके लिए सरकार ने लखनऊ, सैफई, हापुड़, मैनपुरी, कासगंज और कनौज में किसान बाजार स्थापित करवाया। साथ ही कर्ज में डूबे किसानों के कर्ज को भी माफ़ किया। सहकारी ग्राम विकास बैंकों से कर्जा लेने वाले 7 लाख 32 हजार 167 किसानों के 1720 करोड़ रुपये माफ़ कर दिए। इससे जमीन बेचने को विवश होने वाले किसानों को बहुत बड़ा फायदा हुआ।

Photo_uttamup.com

Photo_uttamup.com

बुन्देलखण्ड में सूखा प्रभावित किसानों के लिए अनेक सुविधाएँ

बुन्देलखंड प्रदेश का ऐसा जिला है जो लम्बे समय से सूखे जैसे हालात से निपट रहा है। यहाँ लोगों के सामने रोजी और रोटी का बड़ा संकट उत्पन्न हो गया था। लेकिन उत्तर प्रदेश सरकार ने बुन्देलखण्ड में सूखा प्रभावित क्षेत्रों में 24 घंटे बिजली देकर यहाँ के लोगों रोजगार में बढ़ी मदद की। इसके अलावा मनरेगा में मजदूरी करने वाले लोगों को रोजगार दिवस 100 से बढ़ाकर 150 दिन प्रति वर्ष किया। इसके अलावा राज्य सरकार ने बुन्देलखण्ड में सिंचाई सुविधा को बेहतर करने के लिए 7300 किमी नहर और 1589 राजकीय ट्यूबवेल का निर्माण करवाया। इस तरह से इस क्षेत्र में नहर द्वारा 6.52 लाख हेक्टेयर और नलकूप से 4.61 लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई हुई।

Photo_uttamup.com

Photo_uttamup.com

आबपाशी शुल्क माफ किया

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के नेतृत्व में प्रदेश की समाजवादी सरकार ने अपने अभी तक के कार्यकाल में प्रतिवर्ष 200 करोड़ रुपये के हिसाब से 700 करोड़ रुपये का आबपाशी शुल्क माफ़ कर दिया है। इससे प्रदेश के तकरीबन 256 लाख किसानों को फायदा हुआ है। इससे किसानों को काफी राहत मिली है।

Photo_uttamup.com

Photo_uttamup.com

 

नुकसान की अखिलेश सरकार ने की भरपाई

बीते वर्षों में मौसम ने प्रदेश के किसानों को काफी नुकसान पहुँचाया है। जिससे किसानों की तैयार फसल बर्बाद होती रही है। ऐसे में किसानों के सामने भूखमरी जैसे संकट आने की सम्भावना बढ़ती दिखी। लेकिन प्रदेश सरकार ने बढ़ी ही मुस्तैदी से इस संकट का सामना किया। बेमौसम बारिश और ओलावृष्टि से प्रदेश के 49 जिलों के किसान प्रभावित हुए हैं। इन किसानों को राहत पहुँचाने के उद्देश्य से प्रदेश सरकार ने 3500 करोड़ रुपये अब तक किसानों में आवंटित किये गये हैं।

गन्ना किसानों के साथ अखिलेश सरकार 

उत्तर प्रदेश में ज्यादातर किसान गन्ने की खेती से जुड़े हैं। इसलिए प्रदेश की अखिलेश सरकार भी गन्ना किसानों को विशेष महत्व देती है। प्रदेश की बहुत सी चीनी मिलें समय पर गन्ना किसानों का भुगतान करने में हीलाहवाली करती रही हैं। जिसके लिए सरकार ने चीनी मिलों को सख्त निर्देश तो दिए ही हैं, साथ ही राज्य सरकार ने चीनी मिलों को 28.60 रुपये प्रति कुंतल की दर से अतिरिक्त वित्तीय सहायता भी प्रदान किया है। जिससे चीनी मिलों ने पेराई सत्र 2014-15 का 19023.14 करोड़ रुपये गन्ना मूल्य भुगतान किसानों को कर दिया है।

 

उत्तर हमारा

1 Comment

  • Md.Rahbar Siddiqui says:

    समाजवादी पार्टी की सरकार ने जितना विकास कार्य उत्तर प्रदेश में किया है किसी सरकार ने नहीं किया । प्रदेश के विकास मे सहयोग करे अपना कीमती वोट समाजवादी पार्टी को दे। धन्यवाद
    मो0 रहबर सिद्दीकी जिला मीडिया प्रभारी
    माननीय मुलायम सिंह यादव यूथ ब्रिगेड अमेठी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news