Uttar Hamara logo

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के लिए किसानों का हित सर्वोपरि

301

समाजवादी पार्टी विकास का मूल एजेंडा है, गरीब, किसान और उपेक्षित वर्ग का उत्थान करना। जिसके लिए मुलायम सिंह यादव के बाद मौजूदा सीएम अखिलेश यादव लगातार संघर्ष करते रहे हैं। सीएम अखिलेश ने यूपी का विकास इस बात को गांठ बांधकर किया है। उन्होंने एक तरफ जहां शहरों में मेट्रो और विकास को रफ्तार देने के लिए एक्सप्रेसवे बनाने का काम हुआ। तो वहीं किसानों को मुफ्त सिंचाई और सहकारी बैंक से लिए गये कर्ज को माफ़ करने का भी काम हुआ है। इसके अलावा किसानों के लिए कृषक दुर्घटना बीमा और सस्ती खाद उपलब्ध कराने का काम भी सपा सरकार ने किया है। गन्ना किसानों का भी अखिलेश सरकार ने ख्याल रखा है, गन्ने के दाम को न सिर्फ बढ़ाया गया है बल्कि किसानों को समय पर भुगतान करने का निर्देश भी चीनी मिलों को दिया गया। किसानों को उनकी उपज का सही दाम दिलाने के लिए बड़े पैमाने पर शहरों में एग्रीमॉल खोले गए। पूरे प्रदेश में 1643 एग्रीमॉल खोलकर उनका संचालन शुरू किया गया है।

कर्ज माफ़ी

अखिलेश यादव ने मुख्यमंत्री बनते ही सिंचाई शुल्क के कुल 700 करोड़ रुपये माफ कर दिए। इससे प्रदेश के दो करोड़ 56 लाख से ज्यादा किसानों के लिए बचत संभव हुई। अभी तक मेहनत के बाद जो रकम किसान ब्याज चुकाने में खर्च कर देते थे, अब उस रकम से वो घर और खेती की जरूरतें पूरी करने लगे। किसानों के 50 हजार रुपये तक के कर्ज भी अखिलेश सरकार ने माफ कर दिए, जिससे प्रदेश में आठ लाख से ज्यादा किसानों को राहत मिला है।

मुफ्त सिंचाई

अखिलेश यादव ने करीब पांच लाख बोरिंग, नलकूप आदि का मुफ्त निर्माण कराया गया। इससे पूरे प्रदेश में 12.43 लाख हेक्टेयर खेतों में सिंचाई का पानी पहुंचा। किसानों को इससे सबसे ज्यादा लाभ हुआ है। क्योंकि जिस तरह से केंद्र सरकार ने डीजल का दाम बढ़ा रखा है। उस सन्दर्भ में मुफ्त सिंचाई का लाभ मिल जाये तो ये सबसे बड़ी मदद हो जाती है।

कृषक दुर्घटना बीमा

245

एक अनुमान के अनुसार उत्तर प्रदेश में करीब ढाई से तीन करोड़ किसान हैं, जो आबादी का बड़ा हिस्सा हैं। अखिलेश सरकार ने इन किसानों के लिए कृषक दुर्घटना बीमा योजना लागू की। इसके तहत दुर्घटना की स्थिति में किसान या उसके परिवार को बीमा के 5 लाख रुपये दिए जाते हैं। अब तक 21 हजार से अधिक किसान परिवारों को 1000 करोड़ रुपये की सहायता दी जा चुकी है। इसके अलावा मौसमी आपदा से नुकसान होने पर करीब 30 लाख किसानों को सरकार ने 1330 करोड़ रुपये तक का अनुदान दिया।

दूध उत्पादन

ग्रामीण रोजगार को बढ़ावा देने के लिए अखिलेश यादव की सरकार ने कामधेनु योजना की शुरुआत की। इससे बड़े पैमाने पर पशुपालकों और किसानों को स्वरोजगार करने का मौका मिला तो साथ ही उत्तर प्रदेश दूध के उत्पादन में भी देश में शीर्ष पर पहुँच गया। आज कामधेनु योजनाओं की बदौलत उत्तर प्रदेश में रोजाना 10लाख लीटर दूध का उत्पादन हो रहा है। तो कई मिल्क प्लांट भी उत्तर प्रदेश में खोले जा चुके हैं, जिससे लोगों को रोजगार भी मिल रहा है।

सीएम अखिलेश यादव मैनपुरी में एक चुनावी जनसभा को संबोधित करते हुए, देखें वीडियो

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news