Uttar Hamara logo

अखिलेश यादव के इस सफ़र में बेहद अहम् रही है हमसफ़र डिम्पल की भूमिका

6a

27 January 2017

कहते हैं कि किसी भी व्यक्ति की कामयाबी के पीछे एक औरत का हाथ होता है। क्या आप जानते हैं उत्तर प्रदेश के लोकप्रिय मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की कामयाबी के पीछे किसका हाथ है? जी, उनकी पत्नी डिंपल यादव का। डिम्पल यादव हर वक्त, हर मुसीबत में, हर संघर्ष में उनके साथ खड़ी रही हैं। दो चार माह पहले भी जब स्थितियां अनुकूल नहीं थीं तब भी डिम्पल यादव में अखिलेश यादव का हौसला बढाया। अखिलेश यादव और डिंपल की कहानी बहुत कम लोग जानते हैं, पर यकीन जानिए यह कहानी किसी फिल्मी कहानी से कम नहीं है।

अखिलेश यादव से डिंपल यादव से मुलाकात इंजीनियरिंग की पढ़ाई के दिनों में हुई थी। तब अखिलेश महज 21 साल के थे और डिंपल यादव की उम्र 17 की। डिंपल स्कूल में पढ़ा करती थी और अखिलेश इंजीनियरिंग की पढ़ाई कर रहे थे। दोनों की मुलाकात एक ऐसे दोस्त के घर हुई थी जोकि दोनों का दोस्त था। जब दोनों पहली बार मिले थे तो दोनों के बीच में अच्छी खासी बातचीत हुई थी। अखिलेश यादव की जिंदगी पर वरिष्ठ पत्रकार सुनीता एरन ने एक किताब लिखी है, जिसका नाम है ‘अखिलेश यादव- बदलाव की लहर’ । इस किताब में उन्होंने अखिलेश और डिंपल यादव की प्रेम कहानी के बारे में विस्तार से बताया है।

उन्होंने बताया है की पहली मुलाकात में ही अखिलेश और डिंपल यादव अच्छे दोस्त बन गए थे। उसके बाद उन दोनों में लगातार बातचीत होती रही और थोड़े ही दिनों में यह दोस्ती प्यार में बदल गई। अखिलेश और डिंपल यादव मिलने का बहाना ढूंढते रहते थे और दोनों दोस्त के घर जाने के नाम पर एक दूसरे से मिलते थे। कभी लखनऊ के मोहम्मद बाग क्लब में तो कभी सूर्या क्लब में।

6b

जब अखिलेश यादव ने इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी कर लिए तो ऑस्ट्रेलियाई यूनिवर्सिटी से मास्टर की डिग्री लेने के लिए सिडनी चले गए, लेकिन सिडनी जाने के बाद भी अखिलेश यादव ने हमेशा डिंपल से बातचीत बनाए रखा । डिंपल को ख़त लिखना और ग्रीटिंग कार्ड्स भेजना वह कभी नहीं भूलते थे। यह सिलसिला तब तक चला जब तक वह सिडनी में रहे।

उत्तराखंड के निवासी लेफ्टिनेंट कर्नल एसपी रावत की बेटी हैं डिंपल। जब डिंपल और अखिलेश की लव स्टोरी चल रही थी तब उत्तराखंड में लोग नए राज्य की मांग कर रहे थे। उत्तर प्रदेश में सरकार मुलायम सिंह यादव की थी। पहाड़ के लोग इस रिश्ते को स्वीकार करने के लिए तैयार नहीं थे। दूसरी तरफ मुलायम सिंह भी इस रिश्ते के लिए बहुत ज्यादा तैयार नहीं थे।

जब अखिलेश ने मास्टर की डिग्री ले ली और सिडनी से वापस लखनऊ लौटे तब मुलायम सिंह ने उनसे एक सवाल किया- शादी कब करोगे। अखिलेश यादव जानते थे कि उनके पिता का मन इस शादी को लेकर तैयार नहीं है। तब अखिलेश ने अपनी दादी का सहारा लिया। दादी मूर्ति देवी बीमार थी। अखिलेश उनके पास गए और अपनी पूरी प्रेम कहानी बताई और उनसे कहा कि आप ‘नेताजी’ को मना लीजिए। दादी ने भी अखिलेश का पूरा साथ दिया और उन्होंने मुलायम सिंह को शादी के लिए तैयार कर लिया। 24 नवंबर 1999 को डिंपल और अखिलेश यादव विवाह के बंधन में बंध गए।

6c

आज डिंपल और अखिलेश यादव तीन बच्चों- अदिति, टीना और अर्जुन के माता-पिता हैं। 2012 में अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के सबसे कम उम्र के मुख्यमंत्री बने तब उनकी उम्र महज 38 साल थी। अखिलेश यादव के मन में पत्नी डिम्पल के लिए कितना प्यार और सम्मान है, वह उनकी इस बात से पता चलता है कि अखिलेश यादव अक्सर यह कहते सुने जाते हैं कि डिम्पल यादव के उनकी जिन्दगी में आने के बार उनकी किस्मत संवर गयी।

एक दोस्ती से शुरु हुई कहानी प्यार में बदली और फिर विवाह के बंधन में बंधने तक का सफर बहुत रोचक रहा है। डिंपल यादव ने अखिलेश को तब अपनाया था, जब अखिलेश पढ़ रहे थे पर आज उत्तर प्रदेश के सबसे कम उम्र के मुख्यमंत्री हैं और लोकप्रियता के मामले में किसी भी नेता से बहुत आगे हैं। डिंपल यादव तब भी उनके साथ थीं और आज भी उनके साथ है। अखिलेश यादव के हर सुख और दुख मैं वह चट्टान बनकर खड़ी रहती हैं और उनको हमेशा यह उम्मीद देती है की एक दिन सब अच्छा होगा और अखिलेश यादव बेफिक्र होकर के अपना काम करते रहते हैं।

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news