Uttar Hamara logo

सोशल मीडिया के जरिये जनता से सीधे जुड़ रहे सीएम

May 10, 2016

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के व्यक्तिगत ट्विटर हैंडल @yadavakhilesh और @CMOfficeUP पर करीब डेढ़ साल से सक्रियता बढ़ने के साथ मौजूदा वक्त में यह देश के व्यस्ततम ट्विटर हैंडल में से एक हो चुका है। इसके  जरिए आम लोगों को न केवल मुख्यमंत्री से कनेक्ट करने का सजह रास्ता मिल गया है, बल्कि खुद अखिलेश सूचनाओं और जानकारियों पर तत्काल प्रतिक्रिया और निर्देश जारी कर रहे हैं। इन सभी बातों से आगे ये उदाहरण गवाह हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश के मानवीय पक्ष, कार्यशैली और काम में पारदर्शिता के। वह दूसरे माध्यमों से साथ-साथ सोशल मीडिया के जरिये जहां लोगों से सीधे जुड़े रहे हैं, वहीं उनकी समस्याओं का त्वरित निस्तारण भी कर रहे हैं।

CM

मुख्यमंत्री अपने व्यक्तिगत ट्विटर हैंडल @yadavakhilesh पर काफी सक्रिय हैं। इस फरवरी तक उनके 837000 से ज्यादा फॉलोवर्स थे। वहीं ऑफिशियल ट्विटर हैंडल @CMOfficeUP के जरिये भी वे लोगों से जुड़े हुए है। हाल ही में इस ट्विटर हैंडल पर सीएम के फॉलोवर्स की संख्या एक लाख के आंकड़े को पार कर चुकी है। इसके माध्यम से मुख्यमंत्री सरकार की योजनाओं, क्रियांवयन और कार्यक्रमों से लोगों को रूबरू करा रहे हैं।

सीएम को टैग कर किया ट्वीट, अगले पल दबोच लिए गए शोहदे

पिछले साल यानी 31 अगस्त 2015 की बात है। लखनऊ में शाम करीब छह बजे अलीगंज निवासी छात्रा इंजीनियरिंग कॉलेज की तरफ से पैदल आ रही थी। इसी दौरान बाइक सवार तीन लड़कों ने उससे छींटाकशी शुरू कर दी। छात्रा ने अपने साथ हुई घटना को ट्विटर पर पोस्ट किया। छात्रा से छेड़छाड़ की घटना सोशल मीडिया पर वायरल हुई। सीएम ऑफिस ने तत्काल इस शिकायत को संज्ञान में लेते हुए एसएसपी राजेश कुमार पांडेय को कार्रवाई के आदेश दिए। आनन-फानन तीन शोहदों को दबोचकर छात्रा के घर पर पेश किया गया।

महिला से अभद्रता की शिकायत, सिपाही को नोटिस

आरोपी सिपाही अभिषेक photo_pradesh18.com

आरोपी सिपाही अभिषेक photo_pradesh18.com

गाजियाबाद के एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करने वाली महिला के साथ गाड़ी चेकिंग के नाम पर एक सिपाही ने अभद्रता की। जिससे आहत होकर महिला ने इसका वीडियो ट्विटर पर शेयर किया और सीएम अखिलेश यादव को टैग कर मदद की गुहार लगाई थी। वीडियो शेयर करने के बाद मुख्यमंत्री ने हस्तक्षेप करते हुए पुलिस को अपना रवैया सुधरने का निर्देश दिया। इस बीच सीएम ऑफिस के हस्तक्षेप के बाद पुलिस ने आरोपी सिपाही से पूछताछ की।

ट्विटर पर फोटो देख सीएम ने विकलांग को दिये पांच लाख

photo_puriduniya.com

photo_puriduniya.com

बांदा के बबेरू तहसील के विकलांग किसान देवराज की हल चलाते हुए तस्वीर अपने ट्विटर अकाउंट पर देख मुख्यमंत्री ने उसे पांच लाख रुपये की मदद दी। मुख्यमंत्री के ट्विटर पर किसान की यह तस्वीर एक एनजीओ ने डाली थी।

सोशल मीडिया पर वायरल तस्वीर ने दिलाया बुजुर्ग टाइपिस्ट को इंसाफ

photo_abpnews.abplive.in

photo_abpnews.abplive.in

एक बुजुर्ग टाइपिस्ट से पुलिस की बदसलूकी के मामले में यूपी सरकार ने बेहद काबिल-ए-तारीफ कदम उठाया। सीएम अखिलेश यादव के निर्देश पर डीएम राजशेखर और एसएसपी ने पीड़ि‍त के घर जाकर नया टाइपराइटर दिया और बदसलूकी के लिए माफ़ी भी मांगी। पुलिस की करतूत सोशल मीडिया पर उजागर हुई और सीएम अखिलेश तक पहुंची। सीएम अखिलेश यादव ने मामले को गंभीरता से लेते हुए ट्विटर पर घटना के लिए खेद जताया और डीएम राजशेखर और एसएसपी को पीड़ि‍त से मुलाकात कर जरूरी मदद मुहैया करने का आदेश दिया। सीएम  के निर्देश पर आरोपी दरोगा को तत्काल प्रभाव से सस्पेंड कर दि‍या गया।

चेक देते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव Photo_uttamup.com

चेक देते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव Photo_uttamup.com

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव 27 सितंबर, 2015 अपने सरकारी आवास, लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में दरोगा की बदसलूकी का शिकार हुए बुजुर्ग टाइपिस्ट कृष्ण कुमार और इस मामले को सोशल मीडिया के सामने लाने वाले फोटोजर्नलिस्ट आशुतोष त्रिपाठी को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सम्मानित किया। इस मौके पर उन्होंने फोटोजर्नलिस्ट के काम की तारीफ की। वहीं, टाइपिस्ट कृष्ण कुमार को एक लाख रुपए देकर सम्मानित किया। सीएम अखिलेश यादव ने फोटोजर्नलिस्ट आशुतोष त्रिपाठी से कहा, ‘आप मुद्दों को ऐसे ही उजागर करते रहिए, जिससे सरकार और शासन-प्रशासन का ध्यान उस ओर जाए और उनकी मदद हो सके। सरकार बुजुर्ग टाइपिस्ट की मदद सिर्फ फोटोजर्नलिस्ट की फोटो के कारण ही कर पाई, नहीं तो कई चीजों की तरह यह बात भी दबी रह जाती।’

पढऩे की ललक देख मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने हरेंद्र को बुलाया

छात्र हरेंद्र सिंह को सम्मानित करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव Photo_uttamup.com

छात्र हरेंद्र सिंह को सम्मानित करते मुख्यमंत्री अखिलेश यादव Photo_uttamup.com

नोएडा सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन के बाहर स्ट्रीट लैंप की रोशनी में पढ़ते हरेंद्र की यही तस्वीर फेसबुक पर वायरल हुई थी Photo_uttamup.com

नोएडा सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन के बाहर स्ट्रीट लैंप की रोशनी में पढ़ते हरेंद्र की यही तस्वीर फेसबुक पर वायरल हुई थी Photo_uttamup.com

सोशल मीडिया पर आर्थिक रूप से कमजोर छात्र हरेंद्र सिंह की स्थिति देख प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का दिल पिघल गया। उन्होंने न सिर्फ जिला प्रशासन से उसकी मदद करने को कहा, बल्कि खुद मिलने के लिए भी बुलावा भेजा। नोएडा के कक्षा-9 के छात्र पर जब गरीबी के कारण पढ़ाई छोड़ने की नौबत आई तो उसने काम करना शुरू कर दिया और पढ़ाई भी जारी रखी। काम करते हुए छात्र की फोटो सोशल मीडिया पर पहुंची तो इसे सांसद डिंपल यादव ने देखा। फिर सीएम को इसकी जानकारी दी।

अपने घर में परिवार के साथ हरेंद्र Photo_uttamup.com

अपने घर में परिवार के साथ हरेंद्र Photo_uttamup.com

दरअसल, इटावा के ग्राम नगला चौहान निवासी हरेंद्र सिंह (13) गरीब परिवार से है। उसके पिता रामगोपाल चौहान की तबीयत भी ठीक नहीं रहती है। कुछ साल पहले रामगोपाल होशियारपुर गांव में किराये का कमरा लेकर रहने लगे। हरेंद्र का दाखिला नोएडा स्थित श्रीकृष्ण इंटर कॉलेज, गढ़ी चौखंडी में करा दिया गया। इसके बाद रामगोपाल की तबीयत और खराब हो गई। छात्र ने परिवार वालों से जिद की कि वह पढ़ाई किसी भी हालत में नहीं छोड़ेगा। पढ़ाई का खर्च निकालने के लिए काम करेगा। लेकिन उसे जब कहीं काम नहीं मिला तो परिवार वालों से थोड़े पैसे का इंतजाम करके नोएडा के सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन के नीचे उसने वजन तौलने वाली मशीन लगा दी। वह हर दिन 50-60 रुपये कमाने लगा। छात्र की लगन की बात सोशल मीडिया के जरिए फैल गई। मुख्यमंत्री ने हरेंद्र के परिवार को पांच लाख रुपये की मदद तो दी ही, साथ ही उसे स्कूल जाने के लिए एक साइकिल भी भेंट की।

दीप्ति की सकुशल वापसी

dipti

स्नैपडील कंपनी की दीप्ति सरन का फरवरी में गाजियाबाद में उस वक्त अपहरण हो गया, जब वह अपने घर लौट रही थी। इस खबर सोशल मीडिया पर खलबली मचा दी। मीडिया में चर्चा होने लगी। तभी मुख्यमंत्री ने घटना का संज्ञान लिया और गाजियाबाद पुलिस को तत्काल एक्शन लेने के निर्देश दिए। उन्होंने स्नैपडील के सीईओ की ओर से टैग किए गए #HelpFindDipti पर घटना की पल पर की जानकारी लेते रहे और गाजियाबाद एसएसपी को भी व्यक्तिगत तौर पर निर्देश देते रहे। साथ ही राज्य पुलिस मुख्यालय को दीप्ति का पता लगाने के पूरे ऑपरेशन पर नजर रखने को कहा। नतीजतन दीप्ति की सकुशल वापसी हुई और आरोपी दबोचे गए।

रुबी को वापस मिला आजीविका का सहारा

ruby singh

गाजियाबाद की रुबी सिंह के दो ऑटो रिक्शा एक घटना में जलकर राख हो गए थे। गाजियाबाद के लोगों ने पहल करते हुए ट्विटर पर उनकी फोटो जारी कर रुबी के लिए मदद की मांग की मुहिम शुरू की। मामला मुख्यमंत्री की जानकारी में आया तो उन्होंने रुबी को राजधानी आमंत्रित कर उन्हें ऑटो रिक्शा भेंट किया ताकि रुबी की ग्रहस्थी दोबारा पटरी पर आ सके।

फैजल हसन के ताज महल ने गांव में कराया विकास

फैजुल अपनी दिवंगत पत्नी की याद में ताज महल जैसे स्मारक बनवा रहे हैं photo_hindustantimes.com

फैजुल अपनी दिवंगत पत्नी की याद में ताज महल जैसे स्मारक बनवा रहे हैं photo_hindustantimes.com

पिछले साल अगस्त में सोशल मीडिया के जरिये ही रिटायर्ड पोस्ट मास्टर फैजुल हसन कादरी की एक अनूठी पहल के बारे में जानकारी हुई। फैजुल अपनी दिवंगत पत्नी की याद में अपने गांव में ही ताज महल जैसे एक स्मारक बनवा रहे थे। पर उनके सपने में पैसों की कमी आड़े आ रही थी। मुख्यमंत्री 80 साल के इस बुजुर्ग की मदद के लिए आगे आए और उनकी मदद करने की इच्छा जाहिर की। हालांकि फैजुल ने मुख्यमंत्री से गांव में एक बालिका विद्यालय खोलने की मांग की और सड़क दुरूस्त कराने की इच्छा जताई। मुख्यमंत्री ने उनके इस प्रस्ताव पर गांव के विकास कार्यों के लिए तत्काल 40 लाख रुपये जारी कर दिए।

सीएम कर चुके हैं कई को सम्मानित

मुख्यमंत्री श्री अखिलेश यादव ने 27 सितम्बर, 2015 अपने सरकारी आवास, लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम में उत्कृष्ट कार्य करने वाले लोगों को सम्मानित किया। जिन लोगों को सम्मानित किया, वे सभी अलग-अलग कारणों से सोशल मीडिया पर छाए रहे हैं। इन सभी के पक्ष में बड़ी संख्या में लोगों ने ट्विट और पोस्ट किए हैं। इनमें से नोएडा के सिटी सेंटर मेट्रो स्टेशन के बाहर वेइंग मशीन से लोगों का वजन करने के साथ वहीं बैठकर पढ़ाई करने वाला हरेंद्र सिंह, 15 साल की उम्र में पीएचडी करने वाली सुषमा और बलिया में करीब एक दर्जन लोगों की जान बचाने वाले नाविक भी शामिल हैं। वैसे सोशल मीडिया के माध्यम से सीएम की मदद पाने वालों की ये लिस्ट अभी बहुत लम्बी है और लगातार लम्बी होती जा रही है।

सोशल मीडिया बन चुका है जीवन का महत्वपूर्ण हिस्सा

आज सोशल मीडिया लोगों के जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा बन गया है। अब लोग इसकी मदद से अपनी बात को एक ही समय पर लाखों लोगों के समक्ष रखने में सक्षम हो गए हैं। एक रिसर्च के अनुसार भारत में करीबन 20 प्रतिशत लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। ‘पीव रिसर्च सेन्टर’ द्वारा किए गए अध्ययन के मुताबिक, भारत में इंटरनेट का इस्तेमाल करने वालों में से 65 प्रतिशत ने बताया कि वे फेसबुक और ट्विटर जैसी सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट्स का उपयोग करते हैं। जबकि 55 प्रतिशत नौकरियां खोजने के लिए इंटरनेट का उपयोग करते हैं। वहीं Internet and Mobile Association of India की एक रिपोर्ट बताती है कि भारत में मोबाइल इंटरनेट यूजर्स की संख्या 159 मीलियन है, जो 2017 तक 300 मीलियन हो सकती है।

 

उत्तर हमारा

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news