Uttar Hamara logo

यूपी को बुलंदियों तक पहुँचाना बना सीएम अखिलेश यादव के जीवन का मकसद

37

मुख्यमंत्री  अखिलेश यादव ने अपनी चुनावी मुहिम शुरू करते हुए ‘विकास से विजय की ओर’ नाम से तीन नवम्बर को विकास रथ यात्रा शुरू की तो उनसे पिता  मुलायम सिंह यादव ने ही झण्डी दिखाकर रथ यात्रा को रवाना किया। एक टीवी चैनल के नुमाइंदे ने जब अखिलेश यादव से कहा कि समाजवादी पार्टी की दीगर पार्टियों से गठजोड़ की बात चल रही है आप का क्या कहना है तो अखिलेश ने कहा कि किसी से भी गठजोड़ करने के लिए दरवाजे खुले है। लेकिन किसी से भी गठजोड़ करने का आखिरी फैसला पार्टी के कौमी सदर मुलायम सिंह यादव का होगा। इस दौरान अखिलेश ने यह अलबत्ता कहा कि गठजोड़ से किस पार्टी को फायदा या नुकसान होगा इसे भी देखा जाना चाहिए। उन्होने कहा कि इस वक्त उनका सारा ध्यान अपनी रथ यात्रा पर है। पार्टी ने जो पांच साल अवाम की भलाई के लिए काम किए हैं उसे उन्हें बताना भी है। अखिलेश ने कहा कि दुबारा सरकार बनने पर उनकी सरकार दोगुने जोश से प्रदेश की तरक्की के काम करेगी।

अखिलेश यादव अपनी रथ यात्रा के पहले चरण में जब उन्नाव पहुंचे तो उन्होंने पार्टी वर्करों को खिताब करते हुए जम कर मोदी सरकार पर निशाना साधा। उन्होने कहा कि बीजेपी वाले डिजिटल इंडिया और स्मार्ट सिटी का वादा करके भूल गए लेकिन समाजवादी सरकार ने 18 लाख लोगों को लैपटाप दिए। अब दुबारा सरकार बनने पर स्मार्ट फोन देंगे। उन्होंने कहा कि बगैर लैपटाप और स्मार्ट फोन के बीजेपी वाले कौन सा डिजिटल इंडिया बनाना चाहते हैं यह तो वही जानते होंगे। अखिलेश यादव ने साबिक फौजी रामकृष्ण की खुदकुशी का जिक्र करते हुए कहा कि बीजेपी के लोग सर्जिकल स्ट्राइक पर अवाम को गुमराह कर रहे हैं और उसपर सवाल उठाने वालों को फौज का हौसला तोड़ने वाला बता रहे हैं। लेकिन फौजियों का हौसला कौन तोड़ रहा है यह रामकृष्ण की खुदकुशी से साफ हो जाता है। उन्होने उन्नाव के अवाम से पूछा कि उनके लोक सभा मेम्बर ने पिछले ढाई साल के दौरान तरक्की का कौन सा काम करवाया है।

अखिलेश यादव की विकास रथ यात्रा को झण्डी दिखाने ला मार्टीनियर ग्राउंड पर पहुंचे पार्टी सुप्रीमो ने कहा कि समाजवादी पार्टी नारे से नहीं बल्कि बड़ी मेहनत, जद्दोजेहद और कुर्बानी से खड़ी हुई है। इसलिए नारेबाजी से काम नहीं चलेगा। नारा लगाने से सरकार नहीं बना करती। उन्होने कहा कि पार्टी को खड़ा करने में बड़ी लाठियां खाई हैं तब आज इस मकाम पर पहुंचे हैं। नारे लगाने वालों को भी इसके लिए तैयार रहना होगा और जमीनी सतह पर जद्दोजेहद व काम करना होगा। उन्होने कहा कि पार्टी खड़ी करने में हमने बहुत मेहनत की लाठियां खाई हैं। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी को तरक्की की बुलंदी पर पहुचाने में हम लोगों ने लाठियां खाई हैं जेल गए और ऐसे दिन देखे हैं जब समाजवादियों के घरों में रोटी भी नहीं बन पाती थी। उन्होने अखिलेश यादव को आशीर्वाद देते हुए कहा कि ज्यादा से ज्यादा लोगों को पार्टी से जोड़ों।

अखिलेश यादव का विकास रथ दस टायर वाली बस को मोडीफाई करके बनाया गया है। इसमें एक बेडरूम भी है। इसके अलावा रथ में एक हाईड्रोलिक लिफ्ट लगी जिसके जरिए अखिलेश अवाम से मुखातिब हो सकते हैं। इसके अलावा सीसीटीवी कैमरा, एलसीडी टेलीविजन, सोफा और बिस्तर भी है। एक लाउडस्पीकर भी लगा है जिसमें समाजवादी सरकार के कामों का एक कम्पेन सांग बजता रहेगा। साथ ही इंटरनेट सिस्टम कनेक्टिविटी, वाई-फाई जैसी सहूलतें भी हैं। बस पर वजीर-ए-आला अखिलेश यादव का साइकिल चलाते हुए एक बड़ा फोटोग्राफ लगा है। बस के सामने पार्टी के एलक्शन सिम्बल साइकिल की तस्वीर है तो पीछे मुलायम सिंह और अखिलेश की तस्वीर है। शिवपाल यादव की तस्वीर बस में नहीं है। इस विकास रथ यात्रा में अखिलेश यादव, उनकी लोक सभा मेम्बर बीवी और तीनों बच्चे भी साथ में थे। अब यह विकास रथ पूरे उत्तर प्रदेश में अखिलेश यादव और उनकी आगामी सरकार से लोगों को जोड़ेगा और बताएगा कि दोबारा सरकार आने पर जनता की भलाई के क्या काम किये जायेंगे।

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news