Uttar Hamara logo

सीएम अखिलेश के बेमिसाल कामों को मिले खूब इनाम

July 05, 2016

कहिए तो आसमां को जमीं पर उतार लाएं, मुश्किल नहीं है कुछ भी अगर ठान लीजिए।

जिंदगी में सिर्फ और सिर्फ हौसले तथा हिम्मत को मजबूत रखने की जरूरत होती है। जिसने इस मंत्र को जान लिया, उसके लिए तमाम प्रतिकूल परिस्थितियों में भी रास्ते बनते चले जाते हैं। मार्च 2012 में जब अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद की बागडोर संभाली तो उनके सामने मुश्किलें कम नहीं थीं। विरासत में उन्हें बदहाल और कर्जदार उत्तर प्रदेश मिला था, लेकिन अभी तक के चार साल के कार्यकाल में ही उन्हें अपने हौसलों, फैसलों और कार्यक्रमों से उत्तर प्रदेश को उस मुकाम पर स्थापित कर दिया, जिसकी कुछ वर्षों पहले तक कल्पना भी नहीं की जा सकती थी। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की योजनाओं और दूरदृष्टि का ही प्रभाव रहा है कि उत्तर प्रदेश न सिर्फ प्रगति के रास्ते पर लगातार आगे बढ़ रहा है, बल्कि देश-विदेश के फोरम पर आज उसकी तारीफ हो रही है तो कई अहम पुरस्कार भी उत्तर प्रदेश सरकार को हासिल हो चुके हैं।

upo

Photo_indianexpress.com

बिजनेस के मामले में उत्तर प्रदेश भारत के पहले दस राज्यों में

विश्व बैंक द्वारा जारी एक रिपोर्ट में उत्तर प्रदेश को ईज ऑफ डूइंग बिजनेस के नजरिये से भारत के पहले दस राज्यों में भी स्थान दिया गया है। वहीं उत्तर भारत के राज्यों में उत्तर प्रदेश का पहला स्थान है। यह न केवल उत्तर प्रदेश सरकार के लिए गर्व की बात है, बल्कि यह प्रेरणा भी मिलती है कि मुश्किलों को दूर किया जा सकता है। यह उत्तर प्रदेश में उद्योग के लिए बने बेहतर माहौल को भी इंगित करता है। इसके अतिरिक्त सौर ऊर्जा के क्षेत्र में राज्य सरकार द्वारा किए गए कार्यों को राष्ट्रीय स्तर पर सराहा गया है। हाल ही में भारत सरकार की संस्था ऐरियास द्वारा यूपीनेडा को 6 पुरस्कार प्रदान किए गए हैं।

skill

Photo_ indiabyminute.com

कौशल विकास में सर्वश्रेष्ठ

मुख्यमंत्री बनने के बाद से ही अखिलेश यादव की कोशिशें रही हैं कि कैसे उत्तर प्रदेश को खुशहाली के रास्ते पर ले जाया जाए। कैसे ज्यादा से ज्यादा  युवाओं को रोजगार मिले और परिवारों को पेट पले। लिहाजा कौशल विकास मिशन को ज्यादा से ज्यादा रोजगार देने का जरिया बनाया गया। लगातार मॉनीटरिंग के चलते देखते-देखते इसके अच्छे नतीजे दिखने लगे। हजारों युवाओं के रोगजार का इंतजाम हुआ। ये अखिलेश सरकार की कोशिशों का ही नतीजा रहा है कि प्रदेश सरकार को केंद्र सरकार ने भी इस मोर्चे पर सराहा। नई दिल्ली में आयोजित ‘समिट कम अवार्ड्स ऑन स्किलिंग इंडिया – द वे फारवर्ड’ में उत्तर प्रदेश को कौशल विकास के क्षेत्र में सर्वेश्रेष्ठ काम के लिए पुरस्कृत किया गया। हाल ही में कौशल विकास मिशन में अहम योगदान देने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ की शैक्षिक इकाई यूनेस्को ने उत्तर प्रदेश को बेस्ट स्टेट का खिताब दिया है।

Under construction site of Agra Lucknow Expressway on February 9, 2016

तेज काम के लिए एक्सीलेंस अवार्ड

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे के निर्माण के दौरान यूपीडा ने काफी तेजी दिखाई। इस एक्सप्रेस वे का निर्माण कराने वाली यूपीडा को इंडिया प्राइड अवाॅड्र्स 2014-15 के तहत केेंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा इंफ्रास्टक्चर डेवलपमेंट इन्क्लूडिंग टांसपोर्टेशन पुरस्कार प्रदान किया गया।

भूमि अधिग्रहण के लिए भी सम्मान

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस वे के लिए भूमि की व्यवस्था करने के लिए अखिलेश सरकार ने अद्वितीय प्रक्रिया अपनाई। यूपीडा द्वारा अपनाए गए इस भूमि अधिग्रहण के अभिनव मॉडल के संबंध में एक पेपर प्रस्तुत करने के लिए यूपीडा को एडमिनिस्टेटिव स्टाफ कॉलेज, हैदराबाद द्वारा आमंत्रित किया गया।

lonly planet

सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए बेहतरीन स्थान

अखिलेश सरकार में हर क्षेत्र में चाहे धार्मिक हो या फिर सांस्कृतिक या फिर प्रशासनिक, संतुलन स्थापित किया गया। इसे यूपी की सांस्कृतिक विरासत का ही उत्कृष्ट नमूना कहेंगे कि राज्य सरकार की कोशिशों के चलते पत्रिका लोनली प्लेनेट मैग्जीन इंडिया ने उत्तर प्रदेश को बेस्ट डेस्टिनेशन फॉर कल्चर अवार्ड से नवाजा है।

पर्यटन में उत्तर प्रदेश अव्वल

अखिलेश सरकार प्रदेश में पर्यटन को बढ़ावा दे रही है। इसके लिए सरकार ने आगे बढ़कर कई काम किए हैं। सैलानियों को सहूलियत देने के लिए पर्यटन विभाग ने मोबाइल एप लॉन्च किया है। पर्यटन विभाग द्वारा बनाए गए एप को डिजिटल एक्सपेरिमेंट फाउंडेशन द्वारा सोशल मीडिया फॉर एम्पॉवरमेंट श्रेणी के तहत पुरस्कृत भी किया गया है।

CPF5GsiUEAADn9i

दूध का रिकॉर्ड उत्पादन

किसी भी सरकार के कामों का लाभ जब तक गांवों और गरीबों तक तब तक नहीं पहुंच सकता, तब तक असली मकसद पूरा नहीं होता है। यही मानना है मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का। ग्रामीण क्षेत्रों तक रोजगार पहुंचाने के लिए सरकार ने दुग्ध विकास पर जोर देना शुरू की है। इसके परिणामस्वरूप आज उत्तर प्रदेश में दूध का रिकॉर्ड उत्पादन हो रहा हैं। इस उपलब्धि में समाजवादी सरकार की कामधेनु, मिनी कामधेनु और माइक्रो कामधेनु योजना का महत्वपूर्ण योगदान है। इस योजना के माध्यम से सरकार ने प्रयास किया कि पशुधन की रक्षा भी हो और किसानों-गरीबों को कमाई का साधन भी मिल सके। कामधेनु योजनाओं का लाभ सरकार ने असली जरूरतमंदों तक पहुंचाया, जो पहले किसी सरकार में नहीं किया गया था।

Maha Kumbh Mela main view

Photo_ indiapilgrimagetours.blogspot.com

कुंभ के लिए भी सराहना

इलाहाबाद के कुंभ मेला 2013 के सफल आयोजन के लिए भी उत्तर प्रदेश सरकार के प्रयासों की भी देश-विदेश में सराहना हो चुकी है। मेला प्रबंधन के लिए जानकारी लेने के इरादे से साउथ एशिया इंस्टीट्यूट, हार्वर्ड यूनिवर्सिटी ने प्रकाशित अंग्रेजी पुस्तक मैपिंग द इफेमरल मेगा सिटी के हिंदी संस्करण के प्रकाशन का फैसला किया है।

LUCKNOW. MAY 5 (UNI):- Uttar Pradesh Chief Minister Akhilesh Yadav receiving cheque for Nepal earthquake victims from U P Coperative Sugar Factories Federation Ltd in Lucknow on Tuesday. Department Chief Secretary Rahul Bhatanagar and MD B K Yadav seen in the picture. UNI PHOTO -20U

Photo_dailyamin.com

नेपाल के लिए भी बढ़ाया मदद का हाथ

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के भावुक और कोमल हृदय की पहचान है कि नेपाल में आई आपदा पर उन्होंने बढ़-चढकर आर्थिक मदद देने का एलान किया। यही नहीं मुख्यमंत्री राहत कोष से आर्थिक सहायता तो दी ही, सभी सरकारी अधिकारियों, कर्मचारियों और मंत्रियों का आह्वान किया ताकि भरपूर मदद की जा सके। नेपाल में आई त्रासदी पर अखिलेश यादव की सहृदयता देखकर केंद्र सरकार भी तारीफ किए बिना नहीं रह सकी। विदेश मंत्री ने अखिलेश यादव को पत्र लिखकर इस संजीगदी, सहृदयता और भावना की प्रशंसा की। जाहिर है इससे देश ही नहीं, दुनिया में यूपी की छवि निखरी।

LUCKNOW, DEC 21 (UNI):- Uttar Pradesh Chief MInister Akhilesh Yadav(R) welcoming Chairman Tata Trusts, Ratan Tata (L) at a function of multi purpose MoU signed with U P Government and Tata Trusts at CM residence in Lucknow on Monday.UNI PHOTO-8U

Photo_dailyamin.com

रतन टाटा ने की अखिलेश के नेतृत्व की तारीफ

उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए सिलसिलेवार उद्योगों को दी जा रही सहूलियतों, कर अदायगी में छूट और उसी के साथ सिंगल विंडो प्रणाली को प्रभावी तरीके से लागू करने की मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की क्षमता के बडे उद्योगपति भी कायल रहे हैं। देश के जाने-माने उद्योगपति रतन टाटा भी अखिलेश यादव के इन्हीं गुणों और प्रदेश में कराए जा रहे विकास कार्यों की सराहना कर चुके हैं। उन्होंने अखिलेश यादव के नेतृत्व की न सिर्फ तारीफ की बल्कि यह भी कहा कि यह अखिलेश यादव के हुनर का कमाल है कि उत्तर प्रदेश विकास के पथ पर नित नए आयाम स्थापित कर रहा है। प्रदेश में हर क्षेत्र में हो रहे विकास से आह्लादित रतन टाटा ने खुद यूपी सरकार के साथ मिलकर कई योजनाओं में काम करने की इच्छा जताई। इसे सरकार की प्रशासनिक और कार्यशैली की विशेषता माना जा रहा है।

Akhilesh_5

Photo_english.pradesh18.com

बर्ड फेस्टिवल में बनाया रिकॉर्ड

आगरा में आयोजित बर्ड फेस्टिबल के दौरान एक समय में सबसे ज्यादा लोगों द्वारा पक्षियों का अवलोकन किया गया। लिम्का बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड ने इसे मान्यता प्रदान की। इसके लिए राज्य सरकार को सर्टिफिकेट भी प्रदान किया गया। मुख्यमंत्री अखिलेश ने दिसंबर 2015 को आगरा में इंटरनेशनल बर्ड फेस्टिवल का भी उद्घाटन किया था। इस फेस्टिवल के पीछे उनका मकसद उत्तर प्रदेश को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बर्ड वॉचिंग डेस्टिनेशन के तौर पर स्थापित करना था। सीएम अखिलेश का मानना है कि टीवी और वाट्सएप पर लगे रहने में उतनी खुशी नहीं मिलती जितनी चिड़ियों को देखकर मिलती है।

Deepak-Singhal

Photo_upnews.org

जलसंरक्षण के लिए भी पुरस्कार

एक ओर जहां देश भर में पानी का मुद्दा जोरों पर है। वहीं जल संरक्षण के क्षेत्र में अपने कामों पर मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित राजेंद्र सिंह इस क्षेत्र में अखिलेश सरकार द्वारा चलाए जा रहे कार्यक्रमों की तारीफ कर चुके हैं। हाल ही में कोरिया गणराज्य की राजधानी सियोल में हुए अन्तरराष्ट्रीय वाटर सेमिनार में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को ‘प्लेक ऑफ एप्रीसिएशन’ ट्रॉफी से सम्मानित किया गया। यह आयोजन कोरियाई सरकार की संस्थाओं कोरिया रूरल रिसर्च एंड डेवलपमेन्ट इंस्टीट्यूट एवं कोरिया वटर रिसर्च एंड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट द्वारा किया गया था।

CjzAIgUXAAAXJ4G

Photo_ www.tahlkanews.com

लखनऊ के प्राणि उद्यान को आईएसओ सर्टिफिकेट

राजधानी लखनऊ के नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान को उत्कृष्ट प्रबंधन के लिए आईएसओ सर्टिफिकेट प्रदान किया गया है। लखनऊ जू के प्रचलित नाम से मशहूर नवाब वाजिद अली शाह प्राणि उद्यान को उत्कृष्ट रखरखाव और मनोरंजन के साधनों की उपलब्धता, वन्य जीवों व वन संपदा की अच्छी देख-रेख तथा उनके संरक्षण के साथ-साथ शिक्षण, शोध एवं प्रशिक्षण कार्यां को देखते हुए यह प्रमाणपत्र दिया गया है। यह प्रमाणपत्र 20 मई को जारी किया गया था और 19 मई 2019 तक मान्य है।

akhilesh

पौधे लगाने में गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड

पर्यावरण संरक्षण की दिशा में उत्कृष्ट कार्यों के लिए मुख्यमंत्री का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हो चुका है। यह सम्मान उन्हें एक ही दिन में पूरे उत्तर प्रदेश में 10 से ज्यादा पौधे लगाने के लिए दिया गया था। यहां यह भी उल्लेखनीय है कि समाजवादी सरकार प्रदूषण रहित परिवहन को बढ़ावा देने के लिए प्रदेश के कई शहरों में साइकिल ट्रैक्स का निर्माण करवाया है। पेड़ों की छांव के तले गुजरते इन साइकिल ट्रैक्स के निर्माण में इस बात का खास ख्याल रखा गया है कि पेड़ों को नहीं काटना पड़े। साथ ही जनेश्वर मिश्र पार्क जैसे हरियाली से भरपूर पार्कों का निर्माण भी पर्यावरण मित्र मुख्यमंत्री अखिलेश की महत्वपूर्ण उपलब्धियों में से एक है।

blog-image-31-700x389

डीबीटी मॉडल की दुनिया भर में शोहरत

उत्तर प्रदेश का डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर यानी डीबीटी मॉडल देश ही नहीं दुनिया भर में शोहरत बटोर रहा है। यही वजह है कि डीबीटी मॉडल को कैम्ब्रिज विश्विद्यालय ने अपने कोर्स ऑफ स्टडी में शामिल किया है। वहां के छात्र यूपी के डीबीटी मॉडल पर रिसर्च करेंगे और पता लगाएं कि इस अखिलेश सरकार की इस स्कीम में वो क्या खास बातें हैं जिससे किसानों को इतना लाभ हो रहा है। दरअसल इस मॉडल को लागू करके किसानों को फुलप्रूफ तरीके से सीधा लाभ पहुंचाने में बड़ी उपलब्धि हासिल हुई है। उत्तर प्रदेश की पारदर्शी सेवा योजना के नाम से शुरू इस स्कीम के तहत किसानों को बीजों की अनुदान राशि सीधे उनके खाते में भेजने की व्यवस्था की गई है। प्रदेश सरकार के इस मॉडल की केंद्र सरकार भी सराहना कर चुकी है।

most comptative state

Photo_upnew360.com

‘मोस्ट कम्पटीटिव स्टेट’ का दर्जा

हार्वर्ड यूनिवर्सिटी के प्रोफेसर माईकल पोर्टर द्वारा संचालित इंस्टीट्यूट ऑफ कम्पटीटिवनेस के सहयोग से एक प्रतिष्ठित बिजनेस समाचार-पत्र द्वारा मोस्ट कम्पटीटिव स्टेट अवार्ड, 2015 कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश को कम्यूनिकेशन, ह्यूमन कैपेसिटी तथा फैक्टर कंडीशन के लिए पुरस्कृत किया जा चुका है। इस पुरस्कार के लिए प्रदेश को माइक्रोइकोनॉमिक्स कम्पटीनिवनेस, फैक्टर कन्डीशन्स, फाइनेन्शियल कन्डीशन्स, फिजिकल कन्डीशन्स, कम्यूनिकेशन, एडमिनिस्ट्रेशन, ह्यूमन कैपेसिटी, इन्नोवेशन, डिमान्ड कन्डीशन्स, डेमोग्राफिक्स, इनकम डिस्ट्रिब्यूशन एण्ड स्पेन्डिंग पैटर्न, कॅन्टेक्सट फॉर स्ट्रैट्जी, सीआई एण्ड डाइवर्सिटी ऑफ फर्म्स, रिलेटेड एण्ड सपोर्टिंग, सप्लायर सोफिस्टिकेशन तथा इंस्टीट्यूशनल सपोर्ट जैसे मापदण्डों पर देश के 29 राज्यों में प्रथम पाया गया।

 

उत्तर हमारा

2 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news