Uttar Hamara logo

सीएम अखिलेश ने कानपुर पर की सौगातों की बारिश

 

akhilesh-yadav_1460556043

 

भारत के मैनचेस्ट के रूप में मशहूर कानपुर पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सौगातों की बारिश की है। रोचक बात यह है कि समाजवादी सरकार ने इस जिले के विकास के लिए जो वादे किए थे, उससे कहीं ज्यादा विकास कार्य यहां कराए गए हैं। अखिलेश सरकार द्वारा चलाई गई प्रमुख परियोजनाओं को तो लाभ इस जिले को मिला ही है, अलग से भी इस जनपद में उल्लेखनीय विकास कार्य कराए हैं, जो कानपुर को उसका पुराना गौरव दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेंगे। उद्योगों का प्रमुख क्षेत्र होने की वजह से प्रदेश के आर्थिक विकास में इस जिले का अहम योगदान होता है, लिहाजा कानपुर की तरक्की का पूरे प्रदेश की प्रगति से सीधा संबंध है।

कानपुर जिले को सौगातों के रूप में वर्षों से अधूरे पड़े गंगा के तीन पुल बनकर लगभग तैयार हो गए हैं जबकि दो पुलों का काम तेजी से चल रहा हैं। ट्रांसगंगा हाईटेक सिटी, आगरा एक्सप्रेस वे, फिल्म सिटी, उन्नाव शुक्लागंज के बीच फोर लेन साइकिल ट्रैक तैयार करने के लिए मशीनें रात दिन दौड़ रही हैं। ट्रामा सेंटर तैयार होने की ओर है। इतना ही नहीं जिले की सबसे बड़ी व्यावसायिक मंडी होने के बाद भी वर्षों से अपने वजूद के लिए संघर्ष कर रहे बांगरमऊ को तहसील घोषित कर दिया गया। ये सभी ऐसे काम हैं जो अखिलेश सरकार ने जिले को बिना मांगे दी हैं। जबकि अमूमन विकास के कार्यक्रम तभी चलाए जाते हैं, जब लोगों की मांगें होती है या फिर उसके लिए धरना प्रदर्शन होते हैं। उत्तर प्रदेश के इतिहास में शायद यह पहला मौका है, जब प्रदेश सरकार ने जनता की जरूरतों को खुद समझा और विकास कार्य करवाए हैं। निश्चित तौर पर यह मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की कार्यकुशलता का परिणाम है।

bithur-ganga-bridge-completed

Photo_amarujala.com

एक दशक बाद बिठूर गंगा पुल बनकर तैयार

करीब एक दशक बाद बिठूर गंगा पुल बनकर तैयार हो गया है। पुल पर 15 दिनों से वाहन दौड़ रहे हैं। पुल शुरू होने से बिठूर वाया परियर, उन्नाव से लखनऊ आना-जाना आसान हो गया है। बिठूर के आसपास के करीब 30 और उन्नाव के इतने ही गांवों का सीधा जुड़ाव हो गया है। शुक्लागंज या जाजमऊ पुल की बजाय लोग बिठूर से सीधे उन्नाव और फिर कानपुर-लखनऊ हाईवे के जरिए लखनऊ आ जा सकेंगे। 2006 में गंगा नदी पर बिठूर से लेकर परियर उन्नाव तक दो लेन के 900 मीटर लंबे पुल का निर्माण शुरू हुआ था। गौर करने वाली बात यह है कि बसपा सरकार के दौरान इस पुल निर्माण पूरी तरह ठप रहा। 2012 में समाजवादी पार्टी की सरकार आने के बाद सेतु निगम को इसके निर्माण का काम सौंपा गया। सेतु निगम ने इस 932 मीटर और बढ़ाकर कल्याणी नदी को भी इसमें शामिल कर लिया। कुल मिलाकर वर्तमान में पुल की लंबाई 1800 मीटर है। अखिलेश सरकार ने पुल निर्माण के लिए 34 करोड़ रुपये स्वीकृत किए थे।

गंगा नदी पर 2006 में परियर से बिठूर के बीच 900 मीटर का पुल बनना शुरू हुआ। 2007 में बसपा सरकार के दौरान इसके पूरा होने पर ग्रहण लग गया। 2012 में दोबारा समाजवादी पार्टी की सरकार बनी तो अखिलेश सरकार ने पुल को तैयार करने पर जोर दे दिया। इसके लिए राज्य सेतु निगम को जिम्मेदारी सौंपते हुए 932 मीटर के पुल की लंबाई बढ़ाकर गंगा के साथ कल्याणी नदी को भी इसी से जोड़ने का फैसला लिया। इस तरह से बिठूर से परियर को जोड़ने वाला लगभग 1800 मीटर लंबा पुल अब बनकर तैयार हो गया है।

pul

Photo_amaruiala.com

सरैया घाट पर पुल का निर्माण अंतिम चरण में

कानपुर के सरैया घाट शिवराजपुर से फतेहपुर चैरासी क्षेत्र को जोड़ने के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बंदनपुर में वर्ष 2013 में सरैया घाट पर पुल बनाने की घोषणा की। गंगा नदी पर लगभग 765 मीटर लंबे पुल के लिए सरकार ने 32.40 करोड़ रुपये मंजूर किए थे। पुल निर्माण का कार्य अंतिम चरण में है। अक्टूबर 2016 तक उस पर सड़क निर्माण कार्य पूरा होने की दशा में वाहन फर्राटा भर सकेंगे। इसके अलावा बांगरमऊ और फतेहपुर चैरासी में गंगा की कटान से खाली हुए क्षेत्रों में काली मिट्टी दबोली के बीच चार कोठी वाला और बांगरमऊ से बरुआ घाट के बीच चार कोठी का पुल भी लगभग बन कर तैयार है।

Photo_jagran.com

Photo_jagran.com

आगरा एक्सप्रेस वे से नहीं रहेगी दिल्ली दूर

लखनऊ से आगरा के बीच की दूरी को कम करने के साथ साथ मुख्यमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट आगरा एक्सप्रेस वे का लगभग 70 किमी हिस्से कानपुर की सीमा से जुड़ा है। इस एक्सप्रेस वे के अक्टूबर में पूरा हो जाने के बाद कानपुर से दिल्ली का सफर में पहले के मुकाबले लगभग आधा समय लगेगा। इससे कानपुर के उत्पाद दिल्ली और वहां से देश-विदेश तक पहुंचाना बेहद आसान हो जाएगा। इससे कानपुर में कारोबारी माहौली और बेहतर होगा।

Photo_indianexpress.com

Photo_indianexpress.com

फिल्म सिटी से बालीवुड तक होगी धमक

आगरा एक्सप्रेस वे का निर्माण शुरू होने के साथ ही मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कानपुर जिले के गंजमुरादाबाद और औरास ब्लाक क्षेत्र के बीच फिल्म सिटी का निर्माण कराए जाने की तैयारियां तेज कर दी थीं। फिल्म सिटी के निर्माण के लिए बाकायदा जमीन का चयन भी कर लिया गया है। इसके निर्माण से प्रदेश में फिल्मों के क्षेत्र में व्यापक विस्तारण की संभावना है साथ ही बालीवुड की धमक होने की तरफ देखा जा रहा है।

studio-symbiosis-trans-ganga

Photo_ www.phaidon.com

ट्रांस गंगा सिटी से बेहतर होगी जिंदगी

कानपुर और उन्नाव के बीच गंगा बैराज से सटे हुई 1151 एकड़ भूमि का ट्रांस गंगा हाईटेक सिटी विकसित की जा रही है। 3 हजार करोड़ रुपये के इस प्रोजेक्ट में इसे अत्याधुनिक शहर के रूप में विकसित किया जा रहा है। खास बात यह है कि हाईटेक सिटी को राजधानी लखनऊ से जोड़ने के लिए मेट्रो लाने की भी तैयारी की जा रही है। साथ ही हाईटेक सिटी को जीरो डिस्चार्ज प्रणाली से विकसित करते हुए एयरपोर्ट आदि बनाने के प्रस्ताव पर विचार किया जा रहा है।

highway

Photo_ puridunia.com

फोर लेन पर जल्द भरेंगे फर्राटा

कानपुर से उन्नाव के बीच का मुश्किल सफर आसान करने के साथ ही राजमार्ग के खतरे भरे ट्रैफिक को खत्म करने के लिए एक अरब की लागत से मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने चुनाव के बाद फोर लेन साइकिल ट्रैक के साथ 16 किमी लंबा मार्ग तैयार किया जा रहा है। इससे दोनों शहरों के बीच की दूरी को मात्र 15 मिनट के समय में पूरा किया जा सकेगा। इस मार्ग का काम भी लगभग जनवरी 2017 में पूरा होने की संभावना है।

ये तो सिर्फ कानपुर की बात है। पिछले चाल साल के छोटे से कार्यकाल में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने जिस तरह से विकास कार्य करवाए हैं, उसने अरसे से प्रगति की राह देख रहे उत्तर प्रदेश को संजीवनी मिली है।

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news