Uttar Hamara logo

अब आगरा में मेट्रो दौड़ाने में जुटे सीएम अखिलेश

Picture source_ dailyamin.com

Picture source_ dailyamin.com

May 24, 2016

नवाबों के शहर लखनऊ के बाद मोहब्बत की नगरी आगरा में भी अब मेट्रो दौड़ेगी। राजधानी लखनऊ में इस साल के अंत तक मेट्रो सेवा शुरू हो जाएगी। वहीं, सीएम अखिलेश यादव के प्रयासों में वाराणसी और कानपुर में मेट्रो सेवा के लिए केंद्र सरकार ने मंजूरी दे दी है। वाराणसी में मेट्रो सेवा के लिए सीएम अखिलेश यादव ने केंद्र को चिट्ठी लिखी थी। सीएम के पत्र पर संज्ञान लेते हुए केंद्र सरकार ने अब मंजूरी दे दी है। सीएम अखिलेश यादव ने शहरी विकास मंत्री एम वेंकैया नायडू को चिट्ठी लिखकर मांग की थी कि वाराणसी और कानपुर में मेट्रो सेवा के लिए मंजूरी दी जाए, ताकि दिसंबर 2016 तक काम शुरू किया जा सके। इसे अब मंजूरी मिल गई है।

उत्तरप्रदेश सरकार की सलाह पर केंद्र सरकार ने मेट्रो रेल एक्ट 1978 के प्रावधानों को आगे बढ़ा दिया है। अब वाराणसी और कानपुर में तय डीपीआर के मुताबिक मेट्रो रेल के निर्माण का कार्य शुरू हो जाएगा। उत्तप्रदेश की परिवहन और विनिर्माण परामर्श कंपनी रिट्स प्राइवेट लिमिटेड वाराणसी मेट्रो के लिए योजना तैयार कर रही है। बताया जा रहा है कि वाराणसी मेट्रो के निर्माण पर 12350 करोड़ रुपये की लागत आ सकती है। इसके पहले यूपी सरकार 2016.17 बजट में वाराणसी और कानपुर में मेट्रो रेल निर्माण कार्य के लिए 50-50 करोड़ रुपये का प्रावधान कर चुकी है। बनारस में मेट्रो के दो कॉरिडोर बनाने की तैयारी चल रही है। पहला भारत हैवी इलेक्ट्रिकल्स लिमिटेड से लेकर बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी तक तथा दूसरा बेनियाबाग से लेकर सारनाथ तक तैयार होगा। बेनियाबाग दोनों कॉरिडोर्स के लिए इंटरचेंज स्टेशन होगा। भीड़भाड़ वाले शहर वाराणसी में ट्रैफिक को ध्यान में रखते हुए 26 में से 22 स्टेशनों को अंडरग्राउण्ड बनाने की तैयारी है।

आगरा को विकास की नई ऊंचाइयां देगा मेट्रो

आगरा के ताज महल को देखने के लिए दुनिया भर से सैलानी आते हैं Picture source_ www.rankopedia.com

आगरा के ताज महल को देखने के लिए दुनिया भर से सैलानी आते हैं Picture source_ www.rankopedia.com

आगरा को विकास की नई ऊंचाइयों पर ले जाने के मकसद से अखिलेश सरकार ताज नगरी में मेट्रो की शुरुआत करने जा रही है। मेट्रो प्रोजेक्ट का डीपीआर लगभग तैयार हो चुका है। अब जल्द ही आगरा जिला प्रशासन इसे मंजूरी के लिए सरकार के पास भेज देगा। दरअसल, सीएम अखिलेश यादव यूपी को विकास के पथ पर ले जाने के लिए हर क्षेत्र के विकास पर जोर दे रहे हैं। विकास के काम को रफ्तार देने और प्रदेश के लोगों को सुविधा देने के मकसद से कई योजनाएं चलाई गई हैं, जिसका लाभ जनता को मिल भी रहा है। वहीं सीएम अखिलेश यादव की प्राथमिकता वाली योजनाओं में मेट्रो रेल प्रोजेक्ट भी शामिल है। जहां लखनऊ में मेट्रो प्रोजेक्ट का काम हो रहा है और पूरा होने की ओर है। कानपुर में भी जल्द ही मेट्रो का निर्माण शुरु हो जाएगा। तो वहीं प्रदेश की शान ताज नगरी आगरा में भी मेट्रो का निर्माण सीएम की प्राथमिकता में है और इसी प्राथमिकता के तहत ताज नगरी आगरा में भी मेट्रो प्रोजेक्ट ने एक कदम और आगे बढ़ा दिया है।

राइटस को मिला जिम्मा

आगरा में मेट्रो रेल सेवा की फिजिबिलिटी रिपोर्ट तैयार करने का जिम्मा रेल इंडिया टेक्निकल एंड इंजीनियरिंग सर्विसेज, राइटस को दिया गया है और कॉर्डिनेशन एजेंसी आगरा विकास प्राधिकरण को बनाया गया है। मेट्रो प्रोजेक्ट को रफ्तार देने की जिम्मेदारी के चलते राइटस कंपनी और उनकी टीम की कई विजिट अब तक हो चुकी है। और उन्होंने डीपीआर भी लगभग फाइनल तैयार कर लिया है। हाल ही में राइटस ने आगरा मंडल आयुक्त प्रदीप भटनागर को सामने डीपीआर का प्रजेंटेशन भी दिया है।

लखनऊ में इस साल से मेट्रो ट्रेन दौड़ने लगेगी Picture source_lmrcl.com

लखनऊ में इस साल से मेट्रो ट्रेन दौड़ने लगेगी Picture source_lmrcl.com

आगरा में बनेंगे दो मेट्रो कॉरिडोर

आगरा मेट्रो के दो कॉरिडोर बनाए जाएंगे। दोनों कॉरिडोर की लम्बाई करीब 30 किमी होगी। पहला कॉरिडोर सिकंदरा से शुरू होकर  आवास विकास, गोदला, विनय नगर, मारुती स्टेट, पांडव नगर, कोठी मीना बाजार, एमजी रोड होते हुए मॉल रोड और होटल ट्राइडेंट तक जाएगा। वहीं दूसरा कॉरिडोर यमुना एक्सप्रेस-वे से शुरू होगा जो कि ट्रांस यमुना कॉलोनी, वॉटर वर्क्स, एनएच-2, भगवन टॉकिज, सूर सदन, संजय पैलेस, सेंट जॉंस व पंचकुईयां की तरफ से होते हुए रेलवे ट्रेक के सहारे आगरा कैंट की तरफ जाएगा। इन दोनों कॉरिडोर में करीब 30 स्टेशन होंगे और खास बात ये है कि दोनों कॉरिडोर का अंतिम पड़ाव ताजमहल की ओर होगा, जिससे चारों तरफ से लोग ताजमहल तक पहुंच सकें।

अंडरग्राउंड होगा ताजमहल और आगरा किला स्टेशन

राइट्स की तरफ से तैयार किये गये सर्वेक्षण में ताजमहल और आगरा किला मेट्रो स्टेशन को अंडरग्राउंड बनाने का प्रस्ताव दिया गया है। वहीं बाकी जगह पर मेट्रो स्टेशन जमीन के ऊपर बनाए जाएंगे। मेट्रो के संचालन से आगरा विकास के एक और मुकाम पर पहुंचा जाएगा। गूगल मैप के जरिये हुए सर्वे के काम के मुताबिक उखर्रा, सिकंदरा, ताजगंज, यमुना ब्रिज, चीनी का रोजा और कुबेरपुर जैसी जगह शामिल हैं, जिसका उपयोग व्यावसायिक गतिविधियों में शामिल करके मेट्रो संचालन में आने वाले व्यय को पूरा किया जा सकता है। आगरा में मेट्रो के प्रोजेक्ट के लिए करीब 100 हेक्टेयर जमीन तलाश की गयी है।

ट्रैफिक के साथ रोजगार के अवसर

पिछले दिनों लखनऊ मेट्रो के 3 डी इमेज का सीएम मुआयना किया था Picture source_upnew.org

पिछले दिनों लखनऊ मेट्रो के 3 डी इमेज का सीएम मुआयना किया था Picture source_upnew.org

आगरा में मेट्रो चलाने का प्लान अखिलेश सरकार की वह योजना है जिससे लोगों को न सिर्फ ट्रैफिक की समस्या से निजात मिले बल्कि रोजगार के नए अवसर भी पैदा होंगे। साथ ही आगरा विकास की नयी सफलताओं को भी छुएगा। वहीं आगरा में आने वाले देसी-विदेशी पर्यटकों को बेहतर सफर की सुविधा मिल सकेगी।

 

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news