Uttar Hamara logo

बीजेपी एमएलए के पति पर गार्ड की पिटाई का आरोप, छानबीन में जुटी पुलिस

श्रावस्ती
उत्तर प्रदेश के श्रावस्ती जिले में किसान सहकारी शुगर मिल नानपारामें पेराई सत्र के आखिरी दिन गन्ना तौल को लेकर नानपारा से भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के विधायक माधुरी वर्मा के पति ने एक सुरक्षा गार्ड की बुरी तरह से पिटाई कर दी। इसके बाद मौके पर हंगामा शुरू हो गया। गार्ड ने एमएलए के पति पर मारपीट और धमकी देने की धाराओं में मुकदमा दर्ज कराया है। यही नहीं, एमएलए के पति ने मिल के प्रबंधक, मुख्य गन्ना प्रबंधक और गार्ड पर मारपीट, धमकी देने और हत्या करने के प्रयास की धारा में केस दर्ज कराया है। उन्होंने मिल प्रबंधन पर गन्ना किसानों से अवैध वसूली किए जाने का आरोप लगाया है। इस पूरे मामले की हकीकत तो यही है की दोनो भी पक्ष दूध के धुले नजर नही आ रहे है खबरो के अनुसार , पुराव विधयक् जी पहले ही तो जमानत पर चल रहे है ऐसे मे नये केस को देखते हुये तदीपारी जारी कर दी जायेगी

नानपारा कोतवाली अंतर्गत नानपारा में स्थित श्रावस्ती किसान सहकारी शुगर मिल में पेराई सत्र 2017-18 का सोमवार को अंतिम दिन था। बेचईपुरवा गांव निवासी किसान गणेश शंकर सोमवार को ट्रॉली लेकर गन्ने की तौल कराने शुगर मिल पहुंचे थे। आरोप है कि गणेश से मिल के गार्ड ने जल्दी तौल कराने के एवज में एक हजार की मांग की और रुपये न देने पर मिल के बाहर कर दिया। इसी तरह बड़ा भुलौरा गांव निवासी किसान सुंदर लाल से तीन पर्चियों के बदले पांच हजार रुपये की मांग की गई। इससे मिल गेट पर हंगामा शुरू हो गया। मिल प्रबंधन ने गार्डों से किसानों पर लाठियां बरसाने को कह दिया।

गार्ड और पूर्व विधायक के बीच हुई जमकर मारपीट
बीजेपी के मंडल अध्यक्ष रजवापुर आज्ञाराम सोनकर और किसानों ने इसकी जानकारी नानपारा विधायक माधुरी वर्मा के पति और पूर्व विधायक दिलीप वर्मा से की। उस वक्त दिलीप वर्मा पार्टी द्वारा मनाए जा रहे ग्राम स्वराज अभियान के तहत रात्रि प्रवास के लिए डल्लापुरवा गांव में थे। पूर्व विधायक रात में पौने 11 बजे शुगर मिल पहुंचे। उन्होंने मिल के गार्ड उमेश कुमार शुक्ला से अवैध वसूली और तौल न किए जाने का कारण पूछा। आरोप है कि इस दौरान गार्ड मामले को मिल प्रबंधक पर टालते हुए मारपीट पर उतारू हो गए। इससे मिल गार्ड और पूर्व विधायक में मारपीट हुई। महाप्रबंधक प्रदीप त्रिपाठी, मुख्य गन्ना प्रबंधक संजय सिंह के हस्तक्षेप पर मामला शांत हुआ।

शुगर मिल के गार्ड ने दर्ज कराया केस
इस प्रकरण में मंगलवार सुबह गार्ड उमेश कुमार शुक्ला ने पूर्व विधायक दिलीप वर्मा पर केस दर्ज कराया। यही नहीं, दिलीप वर्मा का आरोप है कि मिल के गार्ड ने उनसे मारपीट की और मिल के जीएम, सीसीओ ने जान से मारने का प्रयास किया है। इस दौरान पूर्व विधायक बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़े। कार्यकर्ताओं ने पूर्व विधायक को नानपारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया। पूर्व विधायक ने जीएम प्रदीप त्रिपाठी, सीसीओ संजय सिंह व गार्ड उमेश के खिलाफ आईपीसी की धारा 323, 504 व 307 के तहत केस दर्ज कराया है, जिसके बाद पुलिस जांच में जुट गई है।

सीओ और पूर्व विधायक में हुई नोकझोंक
खुद पर एफआईआर दर्ज होने की सूचना पर मंगलवार सुबह पूर्व विधायक दिलीप वर्मा समर्थकों संग नानपारा कोतवाली पहुंच गए। उन्होंने चीनी मिल के गार्ड के साथ मारपीट के आरोप में दर्ज एफआईआर को फाड़ दिया। इसको लेकर पूर्व विधायक दिलीप वर्मा और सीओ एसके यादव के बीच जमकर नोकझोंक हुई। हालात को देखते हुए कई अन्य थानों की फोर्स भी मौके पर बुला ली गई। अपने समर्थकों के साथ थाने पहुंचे पूर्व विधायक ने एफआईआर वापस न होने पर धरने पर बैठने की चेतावनी दे दी।

जानिए, क्या बोले पूर्व विधायक
पूर्व विधायक दिलीप वर्मा का कहना है, ‘मैंने सिर्फ गार्ड को डांटा था। गार्ड अवैध वसूली कर रहा था। मिल प्रबंधक को मैंने 15 बार फोन किया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं रिसीव किया। इस पर डल्लापुरवा से मैं मिल पहुंचा था लेकिन गार्ड ने बेबुनियाद आरोप लगाते हुए मुझपर केस दर्ज कराया है। मिल में करोड़ो रूपये का घोटाला हुआ है। मिल के मनमाने रवैये से गन्ना किसान बर्बाद हो रहा है।’

मिल के जीएम ने दी सफाई
प्रधान प्रबंधक प्रदीप त्रिपाठी ने बताया, ‘चीनी मिल में सोमवार को पेराई सत्र का अंतिम दिन था। एक-एक ट्रॉली तौल के लिए ली जा रही थी। सुरक्षा गार्ड ट्रॉली की लाइन लगवा रहा था ताकि गेट के बाहर जाम ना लगे। गन्ना किसान जबरन गन्ना ट्राली अंदर ले जाना चाहते थे। पूर्व विधायक दिलीप वर्मा ने सुरक्षा कर्मी को मारा। यदि कोई समस्या थी तो हमसे बताना चाहिए था। रात को पेराई समाप्त हो गई है।’

पूर्व विधायक की तहरीर पर दर्ज किया गया केस
एसपी जुगुल किशोर ने बताया कि पूर्व विधायक दिलीप वर्मा की तहरीर पर शुगर मिल के जीएम, सीसीओ व गार्ड पर और गार्ड की तहरीर पर पूर्व विधायक पर नानपारा कोतवाली में केस दर्ज किया गया है। इस मामले की जांच नानपारा क्षेत्राधिकारी सुरेंद्र यादव को सौंपी गई है।

सजायाफ्ता हैं पूर्व विधायक
दिलीप वर्मा समाजवादी पार्टी (एसपी) के टिकट पर तीन बार महसी क्षेत्र के विधायक रह चुके हैं। उन्होंने कुछ दिन बीएसपी का दामन थामा और अपनी पत्नी माधुरी को एमएलसी बनवाया। उन्होंने एसपी विधायक रहते हुए 1998 में दरगाह थाने में तैनात शिवसहाय नामक एक दलित सिपाही पर हमला कर दिया था। इस मामले में दिलीप को मई 2010 में पांच साल की सजा सुनाई गई थी। वर्तमान में पूर्व विधायक जमानत पर जेल से बाहर हैं। उन्होंने राष्ट्रपति के पास दया याचिका दाखिल कर रखी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news