Uttar Hamara logo

सीएम अखिलेश यादव का एजेंडा : किसानों की तरक्की, प्रदेश का विकास

11e

14 February 2017

उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार ने किसानों को सबसे अधिक सुविधा देने का काम किया है। अखिलेश यादव की सरकार ने किसान के लिए सिंचाई का शुल्क माफ़ कर उनके लिए बचत संभव बनाया। प्रदेश के इतिहास में शायद पहली बार ऐसा हुआ था कि जब किसी सरकार ने किसानों के लिए सिंचाई मुफ्त कर दी। इतना ही नहीं कई नहरों में 30 साल बाद पहली बार इसी सरकार में पानी पहुंचा। अखिलेश यादव की ही सरकार में किसानों को दुर्घटना बीमा और फसल बीमा का लाभ मिला। तो पशुपालकों को विभिन्न सुविधाएं देकर प्रदेश में दूध का उत्पादन बढ़ाया गया है। जितना दूध का उत्पादन उत्तर प्रदेश में बढ़ा है उतना किसी प्रदेश में नहीं बढ़ा है। ग्रामीणों को लोहिया आवास देने का काम किया गया है। किसानों के हित में किसान बीमा योजना शुरू की । तो अब उन्हें पहले की तुलना में और ज्यादा सुविधाएँ देने की योजना तैयार की जा चुकी है ।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने समाजवादी पार्टी का घोषणा पत्र जारी करते हुए साफ़ किया कि  उनका एजेंडा किसानों की तरक्की के माध्यम से प्रदेश का विकास है। उनका कहना है कि जब तक किसान समृद्ध नहीं होगा, तब तक देश व प्रदेश संपन्न नहीं हो सकता है। इसी लिए समाजवादी सरकार ने इन 5 वर्षों में कृषि विकास में प्राथमिकता दी है। अब आगे भी कृषि विकास इनकी शीर्ष प्राथमिकताओं में रहेगा।

11a

आधुनिक और सुविधायुक्त होंगी मंडियां

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव में प्रदेश के बड़े शहरों में किसान मंडियों की स्थापना के बाद अब अगली सरकार ने किसानों के लिये सस्ते दर पर ऋण उपलब्ध कराने की योजना लागू करने का वडा किया है, जिससे किसान आसानी से बीज, खाद आदि की व्यवस्था कर सकें। इसके अलावा किसानों के कृषि उपज का उचित मूल्य दिलाना सुनिश्चित करने के लिए मण्डियों का आधुनिकीकरण एवम मण्डियों को सुविधायुक्त किया जाएगा। किसानों की फसल के स्टॉक को सुरक्षित रखने तथा उनकी उपज का बेहतर मूल्य दिलाने की व्यवस्था की जायेगी।

11b

बुन्देलखण्ड की हराभरा बनाये रहने की कवायद

अखिलेश सरकार ने अपनी मौजूद सरकार में बुंदेलखंड में पानी की समस्या को दूर करने के दूरगामी प्रयास किये हैं।  इसके कड़ी में इस बार वे बुंदेलकझनद सहित पूरे प्रदेश में अधिक से अधिक बंजर और अकृषिक भूमि को सिंचित व उपजाऊ बनाने को तैयारी  में हैं। इन भूमि पर सामाजिक वाणिकी यानि सोशल फारेस्ट्री की जायेगी। वहीं बुन्देलखण्ड में पानी की उपलब्धता हेतु ऐसी व्यवस्था की जायेगी, जिससे वहाँ के किसान वर्ष में दो फसलें उगा सकें। यहाँ विशेष बागवानी योजना को व्यापक रूप से लागू किया जायेगा।

ग्रीन हाउस को प्रोत्साहित

प्रगतिशील खेती को अपना कर किसान अच्छी उपज हासिल कर सकते हैं। इसी क्रम में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने किसानों के हित में सब्जियों और फलों के उत्पादन को अन्तर्राष्ट्रीय बाजारों तक पहुँचाने हेतु ग्रीन हाउस को प्रोत्साहित करने का निर्णय लिया है। एक से उत्पादित जिन्सों जैसे आलू, टमाटर के संरक्षण हेतु शीतगृहों, उनके प्रोसेसिंग तथा मार्केटिंग के पर्याप्त प्रबंध पर बल दिया जायेगा। जैविक खेती को बढ़ावा दिया जायेगा, प्रथम चरण में राज्य सरकार द्वारा जनपद हमीरपुर  को जैविक खेती योजना लागू करने के लिए चुना गया है। बुंदेलखंड के सभी जनपदों में जैविक खेती योजना लागू की जाएगी।

11d

फसल बीमा की एक नयी व्यावहारिक योजना

सौर ऊर्जा से संचालित होने वाले कोल्ड स्टोरेज की स्थापना हेतु योजना लाई जायेगी। किसानों को खाद, बीज, दवाइयाँ सरकारी सस्ते दर पर आवश्यकता केअनुसार पंचायत स्तर पर सहकारी समितियों के माध्यम से उपलब्ध करायी जाएंगी। किसानों के लिये फसल बीमा की एक नयी व्यावहारिक योजना लागू की जायेगी। डिजिटल एवम आधुनिक तकनीक का प्रयोग कर कृषि भूमि के चिन्हांकन की व्यवस्था की जायेगी, ताकि भूमि विवाद समाप्त हो सके। किसानों को एक मुश्त  खतौनी व भू-अभिलेख मुफ्त उपलब्ध कराये जायेंगे। किसानों की भूमि की नपाई, बंटवारा सामान्य आवेदन पर निःशुल्क और तीन माह के अंदर कर दिया जाएगा। तराई क्षेत्रों के किसानों की फसलों के उत्पादन हेतु समुचित विपणन की कार्यवाही की जायेगी।

साढ़े सात लाख रुपये तक का किसान बीमा

प्रदेश के करीब तीन लाख किसानों के जीवन में मुस्कान लाने के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कमर कस  ली है। दोबारा उत्तर प्रदेश में सरकार आने पर सीएम अखिलेश यादव ने किसान बीमा योजना की राशि बढ़ाकर साढ़े सात लाख रुपये तक करने का वादा किया है । वहीं किसान क्रेडिट कार्ड (केसीसी) के ब्याज पर सब्सिडी देने हेतु कार्यवाही की जायेगी।

11

खेतों को मिलता रहेगा भरपूर पानी

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने वडा किया है कि  दोबारा सत्ता में आने पर पहले की तरह ही यह सुनिश्चित किया जायेगा कि जितनी सिंचाई की क्षमता का सृजन हो रहा है वास्तव में उतना पानी कृषकों को खेती हेतु उपलब्ध हो। नहरों के टेल एण्ड तक पानी पहुँचाने की विशेष व्यवस्था की जायेगी। वहीं डार्क ब्लॉकों को डार्क श्रेणी से बाहर लाने की योजना लागू की जायेगी।  राजकीय नलकूपों की व्यवस्था को सुदृढ़ किया जायेगा। बुंदेलखण्ड में सिंचाई हेतु पानी के सृजन की योजनाएं बनाई जायेंगी।

कामधेनु योजनाओं का होगा विस्तार

उत्तर प्रदेश में श्वेत क्रांति लेन में अखिलेश सरकार में शुरू की गईं कामधेनु योजनाओं का विशेष योगदान है।  इन योजनाओं की बदौलत आज उत्तर प्रदेश में रोजाना 10 लाख लीटर दूध का उत्पादन हो रहा है। प्रदेश में यह सर्वश्रेष्ठ है।  इसलिए सीएम अखिलेश यादव ने इस योजना का विस्तार करने का ऐलान किया है।  दोबारा समाजवादी सरकार आने पर दुग्ध उत्पादन में वृद्धि हेतु कामधेनु, मिनी कामधेनु और माइक्रो कामधेनु योजनाओं  का विस्तार किया जायेगा। इतना ही नहीं राज्य में दूध भण्डारण को सुदृढ़ बनाने के लिए चिलिंग प्लाण्ट्स की क्षमता को दोगुना किया जाएगा। पशुओं की इमरजेंसी चिकित्सा हेतु 102/108 की तरह विशेष सेवा प्रारम्भ की जायेगी। प्रत्येक जनपद में सचल पशु चिकित्सा सेवा का विस्तार एवं पुरानी दुग्धशालाओं का आधुनिकीकरण कराया जायेगा।

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news