Uttar Hamara logo

सीएम अखिलेश के मानवीय पहलू चौंकाते भी हैं और अचरज में भी डालते हैं

टेस्ट डाइव कर सीएम अखिलेश ने लिया आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे सीएम का जायजा, मजदूरों को दी बधाई

eway_twitter1

Image_twitter

31 October 2016

राजनेताओं में सादगी की मिसालें कम ही देखने को मिलती हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के व्यक्तित्व का मानवीय पहलू इसका ऐसा उदाहरण है जो कभी चौंकाता है तो कभी अचरज में डाल देता है। ज्यादा दिन नहीं हुए जब पेटीएम के सीईओ को सीएम आवास पर लेकर पहुंचे रिक्शा चालक मणिराम की खबर सुर्ख़ियों में छाई थी। अखिलेश यादव ने मनीराम से बेहद सहजता से हालचाल पूछा था और उसे तमाम सुविधाओं की सौगात दी। इसके बाद उनकी सहजता का एक और उदहारण देखने को मिला जब वह दिवाली की छुट्टियां मनाने सैफई जा रहे थे। आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस- वे पर गाड़ी से उतर कर वे रास्ते में काम कर रहे मजदूरों को दी बधाई दी। उनसे हाथ मिलाया। उन्होंने श्रमिकों की मेहनत की सराहना करते हुए उन्हें दीपावली की बधाई भी दी। मुख्यमंत्री ने आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे में काम करने वाले अधिकारियों एवं कर्मचारियों की सराहना की। यह बताता है कि एक मुख्यमंत्री के रूप में अखिलेश कैसे एक ओर यूपी के विकास के नए रास्ते बना रहे हैं तो अपने मानवीय गुणों से हर आम-खास का दिल भी जीत रहे हैं।

eway_twitter2

Image_twitter

दरअसल आगरा-लखनऊ मुख्यमंत्री इसे जनता को समर्पित करने से पहले खुद इसे ट्रायल करके सुनिश्चित करना चाहते थे कि कहीं कोई कमी तो नहीं रह गई है। इसी कारण लखनऊ से आगरा तक के करीब 302 किलोमीटर के इस एक्सप्रेस-वे पर सैफई जाने के दौरान मुख्यमंत्री ने खुद भी ड्राइविंग का आनंद लिया। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का ड्रीम प्रोजेक्ट आगरा लखनऊ एक्सप्रेस वे ट्रायल रन में कामयाब रहा है। अपनी तरह के इस अनूठे ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस को अब 21 नवंबर को जनता के लिए खोल दिया जाएगा। इसी के साथ ही लखनऊ और आगरा के बीच छह लेन की बेहतरीन रोड पर वाहन फर्राटा भर सकेंगे।

इस पहले भी सीएम अखिलेश ने इस प्रोजेक्ट का रियलिटी चेक 10 अक्टूबर को किया था। एक्सप्रेस वे पर चलने में किसी तरह का झटका महसूस न हो, इसलिए उन्होंने अपने सामने उन्होंने चलती गाड़ी के डैशबोर्ड पर पानी से भरा गिलास रखवाया। तेज ड्राइविंग के दौरान गिलास से पानी नहीं छलका। इस तरह सीएम खुद इस रियल्टी चेक के गवाह बने। उन्होंने इसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर शेयर किया। सीएम एक बार इस एक्सप्रेस वे पर हेलीकॉप्टर उतरवाकर भी इसकी गुणवत्ता चेक जाँच चुके हैं।

eway_twitter

Image_twitter

जहां तक एक्सप्रेस-वे की बात है देश का यह सबसे लम्बा एक्सप्रेस-वे कई मामलों में अनूठा है। इस परियोजना में जमीन खरीदने के लेकर अब तक कुल 28 महीने ही लगे। जबकि अधिकतर सड़क निर्माण का कार्य मात्र 22 महीने में ही पूर्ण हो चुका है। जमीन की व्यवस्था कर उच्च गुणवत्ता के साथ इस आधुनिक सड़क का रिकाॅर्ड अवधि में निर्माण देश में सबसे पहले उत्तर प्रदेश में कराया गया है। सम्भवतः दुनिया में सबसे कम समय में इतनी अच्छी गुणवत्ता व इतनी ज्यादा लम्बाई का एक्सप्रेस-वे कहीं और निर्मित नहीं कराया गया है। देश में पहली बार नदियों पर 6 लेन के सेतु का निर्माण इसी एक्सप्रेस-वे परियोजना में किया गया है। दुनिया में कहीं भी इतना बड़ा प्रोजेक्ट इतने कम समय और इतनी कम लागत में नहीं बना है।

eway_baskar

Image_bhaskar.com

एक्सप्रेस-वे की उच्च गुणवत्ता को देखते हुए इस पर हवाई पट्टी का भी निर्माण कराया गया है, जिससे एक्सप्रेस-वे पर फाइटर प्लेन भी उतारे जा सकेंगे। इस एक्सप्रेस-वे के चालू हो जाने से प्रदेश का आर्थिक परिदृश्य तेजी से बदलेगा। उद्योग और कारोबार को बढ़ावा मिलेगा तथा इसके किनारे विकसित की जाने वाली बड़ी मण्डियों से किसानों को उनकी उपज के लिए बेहतर और बड़ा बाजार उपलब्ध होगा। इस एक्सप्रेस-वे पर यातायात शुरू हो जाने पर देश की राजधानी और प्रदेश की राजधानी के बीच सफर करना सुविधाजनक और त्वरित हो जाएगा।

उत्तर हमारा

1 Comment

  • pramod chaudhary says:

    fantastic job done by the govt…congrats akhilesh ji..
    as a citizen of uttar pradesh..i m bit greedy and wish to know what stops the govt from completing the project of similar nature in time bound manner, the way this project is done…keep it up young man..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news