Uttar Hamara logo

दिनों-दिन बढ़ रही अखिलेश यादव की ख्याति, फिर बनेंगे सियासत के सिरमौर

sfas

लखनऊ–आगरा एक्सप्रेस वे, एशिया का सबसे बड़ा साइकिल ट्रैक, गोमती रिवर फ्रंट, लखनऊ मेट्रो, यमुना विकास प्राधिकरण ग्रेटर नोएडा में फूड प्रोसेसिंग पार्क ये कुछ ऐसे उदाहरण हैं जो उत्तर प्रदेश ने इसके पहले कभी नहीं देखे, न ऐसा विकास कार्य देखा, न कभी ऐसा मुख्यमंत्री देखा।

अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने में जो भी हो सकता था किया। पर अखिलेश के इस हौसले से विपक्ष की पार्टियाँ सदमें में हैं, उन्हें समझ में नहीं आ रहा है कि चंद दिनों पहले जिस नौजवान के हाथों में प्रदेश की बागडोर थमाई गई वो कैसे ऐसा कमाल कर पाया।

जी, ये कमाल संभव हुआ राजनीति की उस घिसी पिटी परिपाटी को छोड़ देने का जिसमें जाति, धर्म और संप्रदाय के आधार पर सियासत की जाती रही, अब अखिलेश यादव ने सियासत में एक नया दौर चलाया है जिसमें न तो धर्म के आधार पर न तो जाति के आधार पर और न ही संप्रदाय के आधार पर सियासत होती है। अब उत्तर प्रदेश में सियासत होती है तो विकास की, गरीब आदमी, आम आदमी के सम्मान की, खेत खलिहानों के किसान की। हाँ, अब उत्तर प्रदेश उत्तम प्रदेश है।

safsa

अखिलेश यादव उत्तर प्रदेश के पहले ऐसे मुख्यमंत्री हैं जिन्हें जनता का आशीर्वाद तो मिला ही साथ ही बेशुमार मोहब्बत भी मिली। आज हर युवा उनके जैसा बनना चाहता है, उनके बताये नक़्शे कदम पर चलना चाहता है। और वो इसलिए क्योकि अखिलेश का कर्म बोलता हैं, हाँ सही समझा काम बोलता है।

बसपा ने पत्थर के हाथियों की सियासत की, भाजपा ने हिन्दू मुस्लिम के आधार पर राजनीति की, कांग्रेस ने सिर्फ अपने पुरखों के नाम पर सियासत की, पर इनमें से किसी ने उत्तर प्रदेश के खेत खलिहान में खड़े किसान की राजनीति नहीं की, गरीब, पिछड़ों की राजनीति नहीं की। सबने अपने अपने हिसाब से अपने अपने सुख के लिए राजनीति की। पर अखिलेश इस मामले में सबसे अलग नज़र आये।

उत्तर प्रदेश वूमेन पॉवर लाइन 1090 ने महिलाओं में सुरक्षा का एहसास कराया है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 15 नवंबर 2012 को वूमेन पॉवर लाइन 1090 की शुरुआत की थी।लड़कियों की शिक्षा और सुरक्षा के लिए भी किये गए वादे निभाये। समाजवादी पार्टी ने अपने घोषणापत्र में लड़कियों की शिक्षा और उनकी सुरक्षा को लेकर भी चिन्ता व्यक्त की और यह वादा किया कि राज्य में समाजवादी सरकार बनने पर हाईस्कूल पास कर चुकी गरीब घर की लड़कियों को कन्या विधा धन देने की योजना को दोबारा लागू किया जायेगा। परीक्षाओं में अच्छे अंक प्राप्त करने वाली लड़कियों को साइकिल देकर सम्मानित करने की बात भी घोषणा पत्र में की गई। ये सब पूरा किया। कन्या विद्याधन योजना ने गरीब छात्राओं का भविष्य उज्जवल बनाने में सफलता के नए कीर्तिमान गढ़े हैं। कमजोर परिवारों की छात्राओं को उच्च शिक्षा मुहैया कराने के लिए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की ओर से उन्हें एकमुश्त 30 हजार रुपये की आर्थिक मदद की जा रही है। इस योजना से प्रदेश की 7.50 लाख से ज्यादा छात्राएं लाभांवित हो चुकी हैं। इस योजना का लाभ प्रदेश के सभी जनपदों की माध्यमिक शिक्षा परिषद, सीबीएससी बोर्ड (सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंड्री एजूकेशन), उत्तर प्रदेश मदरसा शिक्षा परिषद और उत्तर प्रदेश संस्कृत शिक्षा परिषद की इंटरमीडिएट की परीक्षा पास कर चुकी गरीब परिवारों की छात्राओं को दिया जा रहा है।

sdfasdf

शिक्षा के साथ ही लड़कियों और महिलाओं की सुरक्षा पर भी विशेष जोर देने की बात सपा के घोषणा पत्र में की गई थी, इसे भी मुख्यमंत्री ने निभाया। वूमेन पॉवर लाइन इस दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है। उत्तर प्रदेश वूमेन पॉवर लाइन 1090 ने महिलाओं में सुरक्षा का एहसास कराया है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने 15 नवंबर 2012 को वूमेन पॉवर लाइन 1090 की शुरुआत की थी। यह पॉवर लाइन 365 दिन और 24 घंटे काम कर रही है। वूमेन पॉवर लाइन की सफलता के बाद वूमेन सिक्योरिटी एप 1090 भी शुरू किया गया है।

sdfsdf

शिक्षकों के कल्याण की बात समाजवादी पार्टी के घोषणा पत्र में की गई थी तो उसे भी निभाते हुए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रदेश में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए काफी काम किया है। शिक्षकों के कल्याण की बात समाजवादी पार्टी के घोषणा पत्र में की गई थी तो उसे भी निभाते हुए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने प्रदेश में शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए काफी काम किया है। सरकार ने इसके लिए कई स्कीम भी बनाई है। जिसके मदद से छात्रों को बेहतर शिक्षा मुहैया करायी जा रही है। शिक्षा को बेहतर बनाने में शिक्षका का अहम योगदान होता है। इसलिए सरकार ने 18,127 शिक्षकों की नियुक्ति की है। साथ ही जल्द ही 15 हजार और शिक्षकों की नियुक्ति करेगी।सरकार ने 60 हजार टीईटी पास शिक्षकों को नियुक्त किया और 12,825 शिक्षकों की नियुक्ति होनी है।

समाजवादी सरकार द्वारा 1,37,310 शिक्षामित्रों के समायोजन किया गया। साथ ही 27,820 शिक्षकों की नियुक्ति की। बेसिक शिक्षा को सुधारने के लिए सरकार ने 26 हजार विज्ञान और गणित के शिक्षकों की नियुक्ति की। इसके अलावा सरकार ने 3,500 उर्दू शिक्षकों की भी नियुक्ति की। आप जिस क्षेत्र में नजर डाल दीजिये, अखिलेश यादव का समर्पण नजर आएगा। जो वादे या घोषणाएं की, उन्हें तो निभाया ही, हमेशा प्रदेश और यहाँ के लोगों के विकास के बारे में भी सोचा। इस पर काम किया।

विकास और सिर्फ विकास यही वो मूलमंत्र है जो जनता को समझ में आता है और इसी के लिए जनता अपना रहनुमा चुनती भी है, और अखिलेश यादव के विकास कार्य कह रहे हैं कि क्यों पड़े हो चक्कर में, कोई नहीं है टक्कर में…विपक्ष हताश हो चुका है और अखिलेश यादव उन सबसे कोसो आगे निकल चुके हैं और एक बार फिर से उत्तर प्रदेश का ताज संभालने जा रहे हैं।

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news