Uttar Hamara logo

रथ यात्रा स्पेशल : सीएम अखिलेश ने बेटियों को दी नई पहचान, शक्ति परियां लगाएंगी अपराध पर लगाम

shakti-pari_gaonconnection3

Image_gaonconnection.com

04 November 2016

इतिहास गवाह है कि महिलाओं को हक की लड़ाई के हमेशा खुद ही आगे आना पड़ा है। ऐसी संजीगदी पुरुष बाहुल्य समाज में दिखती तो क्या अच्छा होता? पर बदलाव ने दस्तक दे दी है, बशर्ते इसकी मुख्य वजह फिर भी औरतें ही हैं। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव कहते हैं कि उनके परिवार में दो बेटियां और पत्नी हैं, लिहाजा तीन महिलाएं उनके जीवन के फैसलों में शामिल होती हैं। सीएम अखिलेश का संकेत साफ था कि आज के दौर में महिलाओं को गैरअंदाज कर आगे नहीं बढ़ा जा सकता है, चाहे ये महिला बच्ची हो, युवा या बुजुर्ग। यूं ही नहीं महिलाओं को आधी आबादी कहा जाता है।

shakti-pari_gaonconnection

Image_gaonconnection.com

इसी सिलसिले को आगे बढ़ाते हुए मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बेटियों के खिलाफ हो रहे जुल्म के लड़ने के लिए बेटियां को जिम्मेदारी दी है। इसे इस तरह से समझिए- जाके पैर न फटे बिवाई, सो क्या जाने पीर पराई। यानी महिलाओं के प्रति अपराध रोकने के प्रति जैसी संवेदनशीलता और उस अपराध की गंभीरता को जितना बेहतर तरीके से महिलाएं समझ सकती हैं, वैसे शायद ही कोई पुरुष भांप सकता है। लिहाजा मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सूबे की 2 लाख बेटियों को शक्ति परी यानी पॉवर एंजिल्स का खास पदवी देते हुए उन्हें विशेष ताकत से लैस कर दिया है। अखिलेश यादव का यह कदम भी महिला सुरक्षा की दिशा में बड़ी पहल तो है ही समाज में बदलाव की ओर बड़ा कदम भी है। याद कीजिए लोकसभा में महिला आरक्षण विधेयक को पास करने के लिए सभी दलों की महिला सांसदों को एकजुट होकर भी कितनी जद्दोजहद करनी पड़ी। लेकिन अखिलेश ने मौन तरीके से काम करते हुए लड़कियों को सशक्त बना दिया।

shakti-pari_thequint5

Image_thequint.com

पिछले दिनों सीएम अखिलेश ने नव निर्मित लोकभवन में प्रदेश की 450 छात्राओं को खुद ही स्पेशल पुलिस ऑफिसर का दर्जा दिया। ये शक्ति परियां यानी पॉवर एंजिल्स वीमेन पॉवर लाइन 1090 के अंतर्गत महिला उत्पीड़न के खिलाफ काम करेंगी। माना जा रहा है कि इनकी मदद से महिला सुरक्षा के अभियान को सफलता मिली। सरकार का लक्ष्य है कि 2 लाख छात्राओं को एसपीओ का दर्जा दिया जाए। सरकार ने तैयारी की है हर स्कूल की हर कक्षा में 10-10 पॉवर एंजिल्स बनाई जाएं। ये पॉवर एंजिल्स छेड़खानी और यौन शोषण से पीड़ितों की मदद करेंगी। पुलिस तक सूचना पहुंचाने में मदद करेंगी। महिला उत्पीड़न की जानकारी वीमेन पॉवर लाइन को देंगी।

shakti-pari_thequint1

Image_thequint.com

यूपी के हर कॉलेज की 10 प्रतिशत छात्राओं को पॉवर एंजल बनाने का लक्ष्य रखा गया है। अभी तक 63,000 छात्राओं को इसमें शामिल किया जा चुका है। इस योजना के बाद उत्तर प्रदेश महिला सशक्तीकरण के क्षेत्र में एक कदम आगे बढ़ गया है। ये ‘शक्ति परियां’ छेड़खानी और यौन शोषण से पीड़ित छात्राओं और महिलाओं को पुलिस के जरिए मदद दिलाएंगी। उन महिलाओं के लिए भी सहारा बनेंगी, जो अशिक्षा और जानकारी नहीं हो पाने के कारण अपनी समस्याएं नहीं बता पातीं और शोषण का शिकार होती हैं।

shakti-pari_gaonconnection1

Image_gaonconnection.com

पुलिस महानिरीक्षक नवनीत सिकेरा कहते हैं- आमतौर पर लड़कियों और महिलाओं को सामान्यतः उनके साथ होने वाले उत्पीड़न और छेड़छाड़ के बारे में चुपचाप सहने की सीख दी जाती है। लेकिन 1090 ने ऐसी चुप्पी को तोड़ने का काम किया है। इससे महिला अपराधों के प्रति अपराधियों के खौफ पैदा हुआ है, जबकि पहले जहां प्रारम्भ में ही ऐसे अपराधों पर अंकुश न लग पाने की वजह से बाद में बड़े व गम्भीर अपराध होते हैं। ‘1090’ विमेन पॉवर लाइन की कार्यप्रणाली छोटे-छोटे अपराधों को उनके शुरुआती स्तर पर ही रोकने में सहायक हैं, जिससे कि बाद में वह बड़े और गम्भीर अपराध का रूप न ले सके। अब पॉवर एंजिल्स इसे और मजबूत बनाने का काम करेंगी।

shakti-pari_gaonconnection2

Image_gaonconnection.com

जब समाज का तानाबाना संवेदनशील हो तब भी महिला सुरक्षा कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए महत्वपूर्ण हो जाती है। पिछले कुछ वर्षों में देखा गया है कि कैसे अराजक तत्वों ने महिला अपराधों को सांप्रदायिक रंग देकर माहौल को खराब किया है। इस तरह से पॉवर एंजिल्स की जिम्मेदारी भी बढ़ जाती है। अगर आबादी के लिहाज से उत्तर प्रदेश के दुनिया के देशों से तुलना करें तो यहां की जनसँख्या खुद पांचवें सबसे बड़े देश जितनी है। ऐसे में महिलाएं अपने और अपने साथियों के खिलाफ अपराध  के प्रति जब खुद मुखर होंगी तो निसंदेह इसपर अंकुश लगेगा। इस तरह यह स्वीकार किया जाना चाहिए कि सीएम अखिलेश की यह योजना महिला सुरक्षा के क्षेत्र में निर्णायक साबित होगी।

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news