Uttar Hamara logo

अखिलेश यादव ने हर साल के लिए तैयार किया विकास का एजेंडा और उत्तर प्रदेश को बना दिया उत्तम प्रदेश

cxvxcv

जब अखिलेश यादव की उत्तर प्रदेश की सियासत में ताजपोशी हुई तो वो प्रदेश के सबसे कम उम्र में बनने वाले मुख्यमंत्री हुए। राजनीतिक अनुभव बहुत तो नहीं था पर एक ग़ज़ब की तासीर थी उनके अंदर जो एक नयी सुबह का एहसास करा रही थी। लोगों की उम्मीदें समाजवाद के इस नए चितेरे और पहरुआ से लगातार बढ़ रही थीं।

मुख्यमंत्री बनने के बाद करीब छः महीने का समय अखिलेश के लिए बेहद मुश्किल भरे रहे। मायावती की सत्ता जाने के बाद प्रदेश में एक नयी सरकार आई थी और तमाम चीजें बिखरी हुई थीं। मायावती ने जहाँ सरकारी धन का दुरूपयोग कर कर के खज़ाना खाली छोड़ दिया था, वहीँ कानून व्यवस्था भी अच्छी दशा में नहीं थी। विरोधी भी लगातार अखिलेश यादव की कार्यक्षमता पर सवाल पर सवाल उठाये जा रहे थे, पर कहते हैं ना कि जब आप किसी पौधे को लगाते हैं तो उसे लहलहाने में थोडा सा वक़्त तो लगता ही है, ऐसे में अखिलेश यादव ने उन छः महीनों में अपने प्रदेश की ज़रूरतों को बहुत अच्छी तरह से समझा, किसानों से लेकर आम आदमी की तकलीफों को जाना और समझा और उसके बाद जब अखिलेश यादव अपने फॉर्म में आना शुरू हुए तो फिर उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बना के ही माने।

अखिलेश यादव ने सबसे ज्यादा जोर दिया नौजवानों और लड़कियों की शिक्षा पर। एक लड़के को सही समय पर नौकरी मिल जाए और एक लड़की की पढ़ाई में कोई बाधा न आये इसका उन्होंने पूरा ख्याल रखा। अगर आप आंकड़े उठा के देखें तो पायेंगे कि जितनी नौकरियां अखिलेश यादव के सरकार में सृजित की गयी उतनी अन्य किसी भी सरकार में नहीं मिली थी।

czxczc

लखनऊ में जो उत्तर प्रदेश की सियासत की राजधानी है, कभी किसी ने नहीं सोचा था कि वहां मेट्रो चलेगी। कभी उत्तर प्रदेश को भारत के बीमारू और पिछड़े राज्यों की श्रेणी में रखा जाता था लेकिन अब तस्वीर बदल चुकी है। सरकारी आंकड़ों पर गौर करें तो उत्तर प्रदेश की विकास दर दस प्रतिशत से भी ज्यादा है और पिछले चार सालों से ये लगातार बढ़ ही रही है जो भारत के कई राज्यों की विकास दर से बहुत ऊँची है।

जिस प्रदेश के सड़क के गड्ढों का सियासतदान मजाक बनाते थे आज उसी उत्तर प्रदेश में देश का सबसे लंबा एक्सप्रेसवे बनके तैयार खड़ा है और 23 दिसंबर 2016 से आम जनता के लिए खोल दिया जाएगा। इतना ही नहीं करीब 306 किमी लंबे इस एक्सप्रेसवे को बनाने में आगरा से लखनऊ  तक किसानों से अनगिनत जमीनें खरीदी गई और हर किसान को उसके जमीन का ज्यादा से ज्यादा मूल्य दिया गया। क्या आपने इस सड़क के बनने के दौरान कहीं भी किसानों के विरोध की आवाज़ सुनी? नहीं, और वो इसलिए क्योकि अखिलेश यादव ने ये तय किया था कि कुछ भी हो जाए किसान से उसकी जमीन ज़बरदस्ती नहीं लेनी, अगर वो देने को तैयार हो तभी लिया जाय।

vzxdvx

कहते हैं कि देश कितनी तरक्की कर रहा है इस बात का अंदाजा इससे लगाया जाना चाहिए कि वहां बुजुर्गों का कितना सम्मान है। अखिलेश यादव ने इस बात के मर्म को समझा और समाजवादी पेंशन योजना चलाकर हर बुजुर्ग को सम्मान के साथ जिन्दगी जीने का अवसर मुहैया कराया।

उत्तर प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाओं की हालत बहुत बेहतर नहीं थी, कभी जरूरत के समय एम्बुलेंस मगानी हो तो जल्दी मिलती नहीं थी, या अगर मिलती भी थी तो बहुत ऊँचे दामों पर जो गरीब आदमी की पहुँच से बहुत दूर होता था। अखिलेश यादव ने समाजवादी एम्बुलेंस चलाई। जिसने गाँव गाँव में सबको मुफ्त मदद दी। आज अगर आपको कोई भी समस्या हो तो सिर्फ एक फोन पर एम्बुलेंस आपके दरवाजे आ जाती है।

बात को बहुत लंबी न करते हुए आइये अखिलेश यादव की कुछ ख़ास ख़ास योजनाओं पर नज़र डालते हैं-

1- लखनऊ मेट्रो

2- आगरा लखनऊ एक्सप्रेसवे

3- समाजवादी पेंशन योजना

4- लोहिया ग्रामीण बस सेवा

5- विश्वस्तरीय जनेश्वर मिश्र पार्क

6- सुल्तानपुर रोड पर आईटी हब

7- गोमतीनगर में इंटरनेशनल क्रिक्रेट स्टेडियम

8- विकलांग, किसान और वृद्धावस्था पेंशन

9- साइकिल ट्रैक

10- शिक्षामित्रों की बहाली

11- 1090 महिला हेल्पलाइन सेवा

12- लोहिया ग्रामीण आवास

13- निःशुल्क लैपटॉप वितरण

14- संशोधित कन्या विद्याधन

15- कामधेनु डेयरी, कृषक दुर्घटना बीमा

16- ‘102‘ नेशनल एम्बुलेंस सर्विस

17- स्वास्थ्य एवं जननी सुरक्षा, निराश्रित महिला पेंशन

18- कौशल विकास मिशन लाभार्थी

19- बागवानी मिशन एवं उद्यान विभाग की योजनाएं

20- कृषि विभाग की योजनाओं के लाभार्थी

21- सड़कों का विस्तारीकरण

22- डायल 100

cvxc

कुल मिलाकर उत्तर प्रदेश अब अपनी तकदीर बदल रहा है और विकास के मार्ग पर आगे बढ़ रहा है। अगर बातें की जाएँ तो लिस्ट इतनी लंबी होगी कि यहाँ समेटा नहीं जा सकता पर हाँ इतना ज़रूर है ऊपर जिन कामों की लिस्ट हैं उसने गाँव जवार में बैठे किसानों से लेकर सड़क के राहगीर तक को सुविधाएं मुहैया कराई हैं।

ये सारे काम न बीजेपी ने किये है, न बसपा ने, न कांग्रेस ने। ये सब किया है उत्तर प्रदेश के लोकप्रिय मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने। और अगर जनता को विकास पसंद है और वो विकास के लिए वोट देती है तो सच बात तो यही है कि इस समय पूरे प्रदेश में अखिलेश यादव के कद से बड़ा कोई नहीं और आने वाले विधानसभा चुनावों में उनको एक बार फिर से पूरे बहुमत से सत्ता मिलने के आसार तो हैं ही।

उत्तर हमारा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Uttar Hamara

Uttar Hamara

Uttar Hamara, a place where we share latest news, engaging stories, and everything that creates ‘views’. Read along with us as we discover ‘Uttar Hamara’

Related news